Saturday, April 13, 2019

शुक्रिया



फूलों का गुलदस्ता
नज़र आता है मुझे 
उसका चेहरा,
खिला हुआ रंग 
हँसता हुआ कमल 
नज़र आता है,
खूबसूरत बहुत
उसपर लाज की 
लालिमा कातिल, 
किसे कहें हम 
ज़ालिम अब 
बनानेवाले तेरा,
शुक्रिया अदा करे 
वो भी और 
हम भी!

~ फ़िज़ा  

1 comment:

Harpreet Babbu said...

Kya baat......

दिल की मर्ज़ी

  खूबसूरत हवाओं से कोई कह दो  यूँ भी न हमें चूमों के शर्मसार हों  माना के चहक रहे हैं वादियों में  ये कसूर किसका है न पूछो अब  बहारों की शरा...