Tuesday, April 09, 2019

भीगा मौसम भीगी अँखियाँ



भीगा मौसम भीगी अँखियाँ 
जाने किस-किस की दास्ताँ 
सुनाएं नितदिन झर -झर वर्षा 
किसी के ख्वाब टपकते जैसे 
किसी के अरमान बेह गए जैसे 
भीगा मौसम भीगी अँखियाँ 
जाने किस-किस की दास्ताँ 
सुनाएं नितदिन झर -झर वर्षा
किसी का मिलना या बिछड़ना 
मोहब्बत और विरह की दास्ताँ 
तरसना- तड़पाना मिलन की घड़ियाँ 
भीगा मौसम भीगी अँखियाँ 
जाने किस-किस की दास्ताँ 
सुनाएं नितदिन झर -झर वर्षा
ये बारिश ले आये सबकी कहानियां 
पहाड़ों से लेकर गली, तालाब 
खेत-खलियानों में अनाज जैसे 
भीगा मौसम भीगी अँखियाँ 
जाने किस-किस की दास्ताँ 
सुनाएं नितदिन झर -झर वर्षा
लहर हरियाली की जैसे क्रांति 
खुशहाली तो कहीं तबाही बाढ़ की 
सुख की दुःख की गुलाबी चादर लिए 
भीगा मौसम भीगी अँखियाँ 
जाने किस-किस की दास्ताँ 
सुनाएं नितदिन झर -झर वर्षा

~ फ़िज़ा 

No comments:

दिल की मर्ज़ी

  खूबसूरत हवाओं से कोई कह दो  यूँ भी न हमें चूमों के शर्मसार हों  माना के चहक रहे हैं वादियों में  ये कसूर किसका है न पूछो अब  बहारों की शरा...