Tuesday, April 09, 2019

भीगा मौसम भीगी अँखियाँ



भीगा मौसम भीगी अँखियाँ 
जाने किस-किस की दास्ताँ 
सुनाएं नितदिन झर -झर वर्षा 
किसी के ख्वाब टपकते जैसे 
किसी के अरमान बेह गए जैसे 
भीगा मौसम भीगी अँखियाँ 
जाने किस-किस की दास्ताँ 
सुनाएं नितदिन झर -झर वर्षा
किसी का मिलना या बिछड़ना 
मोहब्बत और विरह की दास्ताँ 
तरसना- तड़पाना मिलन की घड़ियाँ 
भीगा मौसम भीगी अँखियाँ 
जाने किस-किस की दास्ताँ 
सुनाएं नितदिन झर -झर वर्षा
ये बारिश ले आये सबकी कहानियां 
पहाड़ों से लेकर गली, तालाब 
खेत-खलियानों में अनाज जैसे 
भीगा मौसम भीगी अँखियाँ 
जाने किस-किस की दास्ताँ 
सुनाएं नितदिन झर -झर वर्षा
लहर हरियाली की जैसे क्रांति 
खुशहाली तो कहीं तबाही बाढ़ की 
सुख की दुःख की गुलाबी चादर लिए 
भीगा मौसम भीगी अँखियाँ 
जाने किस-किस की दास्ताँ 
सुनाएं नितदिन झर -झर वर्षा

~ फ़िज़ा 

No comments:

जाने क्या हुआ है

  आजकल में जाने क्या हुआ है  पन्द्रा -सोलवां सा हाल हुआ है  जाने कैसे चंचल ये मन हुआ है  बरसात की बूंदों सा थिरकता है  कहीं एक गीत गुनगुनाता...