Saturday, February 13, 2021

तरुवर की माया

 



देखता सब है वो मगर नज़र उस पर नहीं 

खबर सबकी है उसे जानता कोई भी नहीं !


ख्याल वो सबका रखता उसका कोई नहीं 

उसके सहारे फलते मगर नाम उसका नहीं !


सेहता कोई भोगता कोई सच कोई जाने नहीं 

मौज करता कोई वो कर्म करता कहता नहीं !


जैसा सभी को दिखता है वो असल में है नहीं 

उम्र गुज़री धुप-छाँव में अब कोई पूछता नहीं !!  


~ फ़िज़ा 

कोवीड इस अचूक से आ मिला !

 सकारात्मक  होना क्या इतना बुरा है ? के कोवीड भी इस अचूक से आ मिला  जैसे ही हल्ला हुआ के मेहमान आये है  नयी दुल्हन की तरह कमरे में बंद हो गय...