Saturday, April 03, 2021

पत्थर दिल

 


हूँ तो बहुत बलवान मगर 

दिल भी यहीं कहीं रहता है 

नादान सा मुझ सा बावला 

मगर चाहता भी क्या प्यार है 

यूँ न मेरे हुलिए पर जाओ तुम 


दिखता हूँ मैं कठोर मगर सबको 

हूँ मैं दिल से अच्छा और बेचारा 

प्रकृति की लीला समझो या फिर 

किसी के अन्याय का हथोड़ा मारा 

दर्द न दिखा सका मुंह खुला रह गया !


~ फ़िज़ा 

No comments:

जाने क्या हुआ है

  आजकल में जाने क्या हुआ है  पन्द्रा -सोलवां सा हाल हुआ है  जाने कैसे चंचल ये मन हुआ है  बरसात की बूंदों सा थिरकता है  कहीं एक गीत गुनगुनाता...