Thursday, April 29, 2021

करुणा


 

आज कहने को सुनने को 

क्या रहा जब खबर सब 

एक जैसी ही आ रही हो 

जहाँ युद्ध में योद्धा लड़ते 

आज हर कोई सैनिक बन 

एक-दूसरे को सहारा दे रहा 

वीर हैं वो जो अपना नहीं पर 

कोविद-ग्रस्त मरीज़ों का सोचें 

रिश्तेदारों को हटाकर खुद ही 

क्रियाकर्म कर उनको विधि से 

मुक्त कर रहे हैं 

लड़खड़ाते हैं मेरे लफ्ज़ आज 

इंसानियत और हैवानियत को 

मुकाबला करते देख !


~ फ़िज़ा 

2 comments:

पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा said...

सच लिखा है आपने।
हार्दिक शुभकामनाएँ। ।।।

Dawn said...

@पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा Ji : shukriya houslaafzayee ka , Abhar!

ख़ुशी

ज़िन्दगी के मायने कुछ यूँ समझ आये  अपने जो भी थे सब पराये  नज़र आये सफर ही में हैं और रास्ते कुछ ऐसे आये  रास्ते में हर किसी को मनाना नहीं आया...