Wednesday, April 28, 2021

बीज


 


बीज बनकर तू गिरा अब पेड़ बन गया

धरा से तू ऊगा है धरा में ही जायेगा 

जानकर भी हमेशा देता सभी को साया 

आसमां की ऊंचाई भाती उस ओर गया 

ऊंचाई तक जाकर तनों को नीचे ले गया 

जिस थाली में खाया उसका ऋण चुकाया 

इतना ही नहीं अनजानों को भी छाया दिया 

एक तू ही है जो इंसान नहीं इंसानियत है 

सीखा कर भी इंसान इंसान न बन पाया 

ऐ वृक्ष तुझे प्रणाम तू मरकर भी काम आया  

अर्थियों के लिए तो ठंड दूर करने के लिए 

तू देता रहा हर पल हर दम तू जलता ही रहा !


~ फ़िज़ा 

7 comments:

Meena Bhardwaj said...

सादर नमस्कार,
आपकी प्रविष्टि् की चर्चा शुक्रवार ( 30-04-2021) को
"आशा पर संसार टिका है" (चर्चा अंक- 4052)
पर होगी। चर्चा में आप सादर आमंत्रित हैं।
धन्यवाद.


"मीना भारद्वाज"

Nitish Tiwary said...

खूबसूरत पंक्तियाँ।

जितेन्द्र माथुर said...

निस्वार्थ सेवाभाव तो वृक्ष से सीखना ही चाहिए हम सभी को। सराहनीय रचना हेतु आपका अभिनंदन।

विकास नैनवाल 'अंजान' said...

सराहनीय रचना... वृक्ष ही क्यों प्रकृति में इनसानों को छोड़कर सभी संतुलन बनाकर चलते हैं....

Onkar said...

खूबसूरत रचना

मन की वीणा said...

सराहनीय पंक्तियां।

Dawn said...

@Meena Bhardwaj Ji, aapka bahut shukriya meri rachana ko apne sankalan mein shamil karne ke liye. Abhar!

@Nitish Tiwary ji, aapka bahut dhanyavaad , abhar

@जितेन्द्र माथुर Ji, bilkul sahi kaha aapne, dhnayavaad houslafzayee ka , ABhar!

@विकास नैनवाल 'अंजान' ji, sarthak baat kahi dhanyavaad protsahan dene ka, Abhar!

@Onkar ji: Dhanyavaad, Abhar!

@मन की वीणा ji, dhanyavaad, Abhar!

दिल की मर्ज़ी

  खूबसूरत हवाओं से कोई कह दो  यूँ भी न हमें चूमों के शर्मसार हों  माना के चहक रहे हैं वादियों में  ये कसूर किसका है न पूछो अब  बहारों की शरा...