Tuesday, April 03, 2018

ढलती शाम की काली रात ...!


शाम ढल रही थी जैसे- जैसे
उसकी उम्मीद भी जाती रही वैसे
जाने क्यों दिल हसास सा रहा ऐसे
न कोई आहट बिलकुल वीरान ऐसे 
मानो रात निगल रही है शाम को ऐसे
उसका जी घबराता, नज़रें ढूंढ़ती किसे
कोई है भी तो नहीं आस-पास ऐसे
जाने कैसे रात थी बहुत साल हुए जैसे
किसी सोच में पड़ा मुसाफिर सा जैसे
पास में ठंडा मटका नहीं सांप जैसे
बदन से सिकोटकर न सो सकते ऐसे
न ही इतनी रात कोई जागे ऐसे
कटी रात कुछ ऐसे पंछी चेहके ऐसे
तब खुली आँख देखा सेहर हो गयी जैसे
हाँ ! मैं क्यों घबरा रहा था ऐसे
इस रात की सेहर ही न हो जैसे?
मायूसी की भी हद्द है यार कैसे 
कल रात क्यों लगी लम्बी रात ऐसे
जिसकी कोई सुबह ही न हो जैसे !!!
~ फ़िज़ा 
#happypoetrymonth

No comments:

उसके जाने का ग़म गहरा है

  जिस बात से डरती थी  जिस बात से बचना चाहा  उसी बात को होने का फिर  एक बहाना ज़िन्दगी को मिला  कोई प्यार करके प्यार देके  इस कदर जीत लेता है ...