Thursday, May 14, 2020

समायोजित करलो !


प्रशिक्षण जिस तरह से दिया गया 
उस से लगा कुछ बिक्री करना है 
मेरी परिस्तिथि ऐसी भी नहीं थी  
मना करके निकल जाऊँ वहां से 
कभी-कभी लगता है वो अहंकार है 
मेरे लिए कोई और चारा भी नहीं था 
पढ़ाई यहाँ महंगी है बहुत ये जाना 
नसीब से सीखने मिला सीख लिया 
बात तय थी जहाँ से भी हो सीख लो 
उपयोग हर स्तिथि पर काम आएगा 
दो दिन के कठिन प्रशिक्षण के बाद 
हमसे कहा गया अपनी जान डाल तो 
कॉल सेण्टर में बिक्री करने के लिए 
जब हर कोई हमें राय दे रहे थे के सेल्स 
की नौकरी  करलो अंग्रेजी अच्छी बोलती हो 
तब पसीने छूटते थे, अब भी कम नहीं था 
अब तक ऑफिस के कपड़ों की ज़रुरत नहीं थी 
रेस्टोरेंट में वहां का यूनिफार्म था एप्रन था 
यहाँ तो रोज़ अच्छे सलीके से प्रोफेशनल होना है 
मराठी महिला से हमने अपनी दुविधा कही 
वो हमें लेकर गयी गुडविल की दुकान में 
यहाँ कपडे दान देते हैं फिर उसे बेचा जाता है 
कुछ एकाध कपडे खरीदे दफ्तर के लिए 
इन सब से महिला खुश नहीं थी कुछ 
उन्हें पता नहीं क्यों ऐसा लगा जैसे के 
मैं उनसे ज्यादा कमा लूंगी या कुछ और 
जो भी हो मुझे वहां से जल्दी ही निकलना पड़ा 
महिला ने एक दिन चेतावनी दी अपना घर देख लो 
फिर क्या था वहीं पास में २५ सेंट डेनिस ड्राइव पर 
एक अपार्टमेंट किराये पर ले लिया आठवां मंजिल 
यहाँ मेरी अपनी दुनिया और अपना नियम 
पेहले पहल तो डरती थी क्यूंकि नयी जो थी 
कभी अकेले रही नहीं अब तक यहाँ आकर 
पहले पादरी के घर तो अब मराठी महिला के घर 
इन दोनों को मेरा तेहे -दिल से शुक्रिया 
क्यूंकि आज मैं हर किसी को राय देती हूँ 
रहो तो अकेले वर्ना रूममेट्स के साथ 
समायोजित करलो  !

~ फ़िज़ा 

No comments:

ज़िन्दगी का नाम है चलना

ज़िन्दगी का नाम है चलना  बाकि सब नियति का खेलना  कुछ प्यारी ज़िन्दगी का जाना  कुछ प्यारी ज़िन्दगी का आना  मगर यादों की पुड़िया बनाना  वही है आखि...