Sunday, May 10, 2020

हौसले को हमने डूबने नहीं दिया ...




इन सब के बीच मेरी कोशिश ज़रूर थी 
एक बेहतर नौकरी जहाँ अपने पढाई अनुसार 
जिसे करने में ख़ुशी और सीखने का मौका मिले 
तनख्वा इस तरह के गुज़ारा के बाद थोड़ा बचे 
आखिर ख्वाब देखना कोई बुरी बात तो नहीं !

सौ जगह अलग-अलग बायोडाटा भेजा तब 
सौ जहगों से अस्वीकार की चिट्ठियाँ आतीं 
मगर हार फिर भी नहीं मानी भेजना काम था 
एक दिन एक जगह से बुलावा आया फ़ोन पर 
बात बनी साक्षात्कार हुए सवाल-जवाब देने !

सब ठीक था मगर साक्षात्कारदाता को लगा 
मेरे पास सन्दर्भ कनाडा का नहीं है पर ज़रूरी है 
हमने भी तुनककर कहा कोई नौकरी दे तभी न 
सन्दर्भ की बात कभी तुम भी इसी स्थान पर थे 
एक मौका आप्रवासियों को मिले तो नसीब खुले !

उच्चाधिकारी के साथ साक्षात्कार हुआ हमारा 
बात तो सही हुई हमारी और उनकी मगर फिर 
उच्चदाहिकारी ने कहा ये प्रारंभिक प्रयास होगा 
कुछ साल बाद नयी औदे पर चली जाओगी 
इसीलिए ये नौकरी आपको नहीं दे सकते हम !

सूरज को उगते देखा है हमने अस्त होते भी देखा 
हिम्मत नहीं हारी कहीं बस एक चोर से दूसरे 
बायोडाटा भेजते रहे और दूसरी बार भी हमने 
आशा की किरण मास्टेक कंपनी ने दिखाई 
मुँह तक निवाला आते-आते झट से निकल गया !

ऐसे कई सूर्योदय का अस्त हमने देखा 
मगर जिस तरह सूरज फिर निकल आता है 
उसी तरह हौसले को हमने हमेशा डूबने नहीं दिया 
और नौकरी के पहले प्रशिक्षण का बुलावा आ गया
जहाँ प्रशिक्षण मिला और कॉल सेण्टर की नौकरी भी !

~ फ़िज़ा 

No comments:

जीवन तो है चलने का नाम ...!

जीवन है चलने का नाम  देते यही सबक और धाम   कुछ लक्ष्य जीवन के नाम  रख देते हैं समाज में पैगाम  चंद गंभीरता से पहुँचते मुकाम  ...