Tuesday, April 04, 2023

कटनी


स्वयंसेवक बनकर गए लेकेट  नामी खेत में 

फसल कटनी है जो गरीबों  के काम आनी है 

ख़ुशी-ख़ुशी चल दिए खेत में कटनी करने 

कोहलरबी की फसल जो शलजम सा है

खाने में पौष्टिक और ताज़ी फसल 

मेहनत से किसी ने बोया मगर फल ?

फल की कटनी किसी ने की और 

फल खायेगा कोई किस्मतवाला 

४४० किलो की कटनी मिलकर की

जो १५० परिवारों का भोजन बना 

नियति का भी क्या खेल है,

वो सब रचता है - कौन बोयेगा, 

कौन कटनी करेगा और कौन खायेगा 

एक दाना जो पेट भरता है वो जाने 

कितने लोगों से मिलकर आता है 

हर दाने की एक ऐसी कहानी होगी 

जिसे शायद ही कोई जान पाए ,

ये मेरी तरफ से कोहलरबी के सफर की 

एक कहानी तेल अवीव में घटी विस्मर्णीय 

कहानी ! !


~ फ़िज़ा 

 

No comments:

अस्पताल

अस्पताल  एक ऐसी जगह जहाँ जीवन पलता है  जीवन खेलता बेहलता  ख़ुशी देता है  उम्मीद से भरी आशायें रोशन होती है ! अस्पताल  जहाँ जीवन-मृत्यु का तां...