Saturday, April 01, 2023

स्वयंसेवक का ये सफर


 कुछ सपने देखने से पहले पूरे होते हैं 

ऐसा ही कुछ आजकल हुआ मेरे संग 

इजराइल के बारे में सुना तो था बहुत 

मगर वहां जाना और लोगों से मिलना 

सपने में भी नहीं कभी सोचा जाना वहां 

कुछ ने डर जताया और कुछ ने हैरानगी 

मगर दिल की सुनने के आदि जो हैं हम 

मुड़कर न देखा किसी को फिर चल दिए 

खुली आँखों से देखे नज़ारे मिले लोगों से 

ज़रूरतमंदों के संग बिताये पल खेले कूदे 

कहीं सब्ज़ज़ियाँ तोड़ी तो कहीं धान्य भरे 

अस्वस्थ बच्चों को जोकर बनकर हंसाया 

ज़मीन से जुड़कर ज़मीन के लोगों से मिले 

इंसानियत की हवा और प्यार वहां भी है 

हर जाती के लोग वहां भी हैं और खुश हैं 

बच्चों के दिलों को जोड़ने वाले इंसान 

डॉक्टर के रूप में कितनों को ठीक करते हैं 

ज़िन्दगी को ज़िंदगी के करीब आते देखा 

इस तरह इजराइल को नज़दीक से देखा 

एक सपना जो देखने से पहले पूरा हुआ 

स्वयंसेवक का ये सफर दिल बागबां हुआ !


~ फ़िज़ा 

No comments:

जाने क्या हुआ है

  आजकल में जाने क्या हुआ है  पन्द्रा -सोलवां सा हाल हुआ है  जाने कैसे चंचल ये मन हुआ है  बरसात की बूंदों सा थिरकता है  कहीं एक गीत गुनगुनाता...