Thursday, May 06, 2021

यादों का सफर


 

आज यूँही यादों के सफर में निकल गयी 

जब हाथ पड़ा पुराने एल्बम पर 

एक से दूजा तीजा मन खो गया 

उन दिनों की यादें जैसे बचपन लौट आया 

वो स्कूल के दिन और उन दिनों की आशाएं 

छोटी परेशानियां पढ़ाई के तो खेल का मैदान 

मानों सारा दुःख उसी मैदान में उंडेलते 

घर से स्कूल और स्कूल से घर का रास्ता 

इतना लम्बा नहीं था कभी जितना आज है 

तब भी प्रकृति से एक रिश्ता बना लिया था 

जहाँ यार-दोस्त हो न हों मगर पक्षियां थे 

नदी-नाले फूल-क्यारियां और अमरुद का पेड़ 

कितने ही बार चढ़कर छत से छलांग लगाया है 

काली-डंडा खेलते-खेलते तो कभी माँ के डर से 

उन दिनों हर डांट में सहारा था टोनी कुत्ते का 

जो चाटकर गाल सेहला भी देता गले लगा भी देता 

किसी थेरपि से कम न था उसका साथ जीवन में 

फिर हर सिरे के अंत समान वो भी गया और हम 

स्कूल से कॉलेज के द्वार तक पहुंचे जैसे-तैसे 

तो सभी को वहीँ पाया और फिर से रेस लगने लगी 

वहां से भागे आज यहाँ हैं और आज भी भाग ही रहे हैं 

आज सब कुछ तो है मगर बचपन तो बचपन है 

उसकी बातें उस पल का एहसास एक खुशबु है 

जो कभी दिल से दिमाग से ओझल नहीं होती 

न उन दिनों की बातें, दोस्त और वो पलछिन 

ऐसे एक सफर में हूँ आज मैं !


~ फ़िज़ा 

5 comments:

Anita said...

बचपन के दिन भी क्या दिन थे

Anuradha chauhan said...

बहुत सुंदर रचना

जिज्ञासा सिंह said...

बचपन की सुनहरी यादों में ले जाती सुंदर रचना ।

Prakash Sah said...

कुछ बीते हुए पल याद आ गयें। बहुत ही सुन्दर एवं भावुक रचना।

Dawn said...

अनीता सैनी जी, आपका बहुत-बहुत शुक्रिया जो अपने मेरी रचना को अपने संकलन में शामिल किया, धन्यवाद
आभार!

अनीता जी, आपका बहुत -बहुत धन्यवाद, आभार !

अनुराधा जी आपका बहुत-बहुत धन्यवाद इस रचना को सराहने के लिए, आभार !

जिज्ञासा जी , आपको रचना पसंद आयी ये जानकार बहुत ख़ुशी हुई, धन्यवाद
आभार !

प्रकाश जी, जानकर बहुत ख़ुशी हुई के ये रचना आपके बचपन तक ले गयी, धन्यवाद,
आभार

जाने क्या हुआ है

  आजकल में जाने क्या हुआ है  पन्द्रा -सोलवां सा हाल हुआ है  जाने कैसे चंचल ये मन हुआ है  बरसात की बूंदों सा थिरकता है  कहीं एक गीत गुनगुनाता...