Wednesday, January 06, 2021

बस ढूंढ़ती फिरती हूँ

 



मोहब्बत सी होने लगी है अब फिर से 

लफ़्ज़ों के जुमलों को पढ़ने लगी हूँ जब से 

जाने क्या जूनून सा हो चला है अब तो 

बस ढूंढ़ती फिरती हूँ उस शख्स के किस्से 

अलग ही सही कुछ तो मिले पढ़ने फिर से

एक दीवानगी सा आलम है अब तो ऐसे 

जब से पढ़ने लगी हूँ एक शख्स को ऐसे 

~ फ़िज़ा  

5 comments:

अनीता सैनी said...

जी नमस्ते ,
आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा शनिवार(०९-०१-२०२१) को 'कुछ देर ठहर के देखेंगे ' (चर्चा अंक-३९४१) पर भी होगी।
आप भी सादर आमंत्रित है
--
अनीता सैनी

Dawn said...

@अनीता सैनी :आपका बहुत शुक्रिया मेरी रचना को अपनी शृंखला में शामिल करने का
आभार

सधु चन्द्र said...

वाह!
क्या बात।

Abhilasha said...

बहुत ही सुन्दर रचना

Dawn said...

@सधु चन्द्र : shukriya aapka

@Abhilasha : behad shukriya aapka


Abhar!

दिवाली की शुभकामनाएं आपको भी !

  दशहरे के जाते ही  दिवाली का इंतज़ार  जाने क्यों पूनावाली  छह दिनों की दिवाली  एक-एक करके आयी  दीयों से मिठाइयों से  तो कभी रंगोलियों से  नए...