Tuesday, March 17, 2020

कॅरोना ने आज सभी को ज़ब्त कर लिया


बचपन में सुनी थी कई कहानियां 
कभी नानी कभी मासी की ज़ुबानियाँ 
जब पड़ा  पृथ्वी पर ज़ुल्म की बौछारियाँ  
और कई कारणवश हुए भी बरबादियाँ 
तब निःसंवार करने पैदा हुए अवतरणियां 
काल का क्या बदलना है समय के साथ 
और इंसान की बदलती नियति के समक्ष  
बिगड़ने लगा संतुलन और संयम प्रकृति का 
एक बलवान रूप विषाणु हुआ पैदा इस बार 
लगा मचलाने इंसान को हर कोने-कोने पर 
रंगीला, फूलों सा सुन्दर खिला-खिला सा 
नाम जिसका कॅरोना लगे हैं मोहब्बत सा 
किसी के छूने से तो छींख से जकड ले ये 
कमसिन मोहब्बत का बुखार हो किसी का 
जो चढ़े तो फिर आग का दरिया सा ही लगे 
पार जिसने भी लगाया जान लेकर ही रहा है 
इंसान के अहंकार को प्रकृति की ललकार है 
बहुत ऊँचा न उड़ रख तो डर किसी का नादाँ 
इंसान और प्रकृति में बढ़ गया अस्मंजसियां  
बिगड़ गया संतुलन प्रकृति और इंसान का 
 कॅरोना ने आज सभी को ज़ब्त कर लिया 
सिमित दीवारों के बीच जैसे कालकोठरियाँ 
फासले बनाये रखें सबसे सभी के दरमियाँ 
शुक्र है उसका जो जान गया और संभल गया 
जो न समझा है न समझेगा अपने गुरुर से 
वो भला कहाँ कभी किसी के काम आएगा
वक़्त हर किसी को परखता है हर पल हमेशा 
तू इंसान हैं, सुधर जा अब भी है तुझे ये मौका 
बिता वक़्त उस घर में उस परिवार संग अपने 
जिसे बनाते-बनाते उम्र गुज़र गयी साथ छूठ गए 
मौका है तू इसे अपना ले कॅरोना के बहाने ही सही 
इंसान तू, ज़मीन का है ज़मीन से ही जुड़ जा संभल जा !

~ फ़िज़ा 

No comments:

अस्पताल

अस्पताल  एक ऐसी जगह जहाँ जीवन पलता है  जीवन खेलता बेहलता  ख़ुशी देता है  उम्मीद से भरी आशायें रोशन होती है ! अस्पताल  जहाँ जीवन-मृत्यु का तां...