Sunday, March 08, 2020

मेरे नन्हे फ़रिश्ते!


तुम्हारी चंचल अठखेलियों से 
वक़्त अच्छा गुज़र गया जैसे 
याद तो है मुझे, माँ तो हूँ वैसे 
मगर कब तुम संग खेलते ऐसे 
मैं रेह गयी बच्ची तुम संग जैसे 
जाने कब, तुम हुए तेरह के ऐसे 
बस आँखों के सामने ही जैसे  
देखते बढ़ गए वो नन्हे हाथ-पैर 
जल्दी ही छू भी लोगे मेरे काँधे 
और बढ़ भी जाओगे वहां से आगे 
थोड़ा धीरे बढ़ो, थोड़ा खेलने दो 
कुछ देर और मेरा बचपन सेहला दो 
मेरे नन्हे फ़रिश्ते!
तुम रहोगे सदा इस दिल में वही  
नादाँ, भोले, प्यारे सभी को भाते 
नन्हें राही ! जन्मदिन मुबारक हो!!!

~ फ़िज़ा 

No comments:

ज़िन्दगी का नाम है चलना

ज़िन्दगी का नाम है चलना  बाकि सब नियति का खेलना  कुछ प्यारी ज़िन्दगी का जाना  कुछ प्यारी ज़िन्दगी का आना  मगर यादों की पुड़िया बनाना  वही है आखि...