Sunday, December 24, 2023

ज़िन्दगी

 


ज़िन्दगी अपनी है और अपने तरीके से जिए 

कब तरीके किसी और के हुए जाना ही नहीं !

आदि हैं सीधे तौर-तरीके से मुद्दे को सामने रखते 

इशारों में कितना कुछ कह दिया जाना ही नहीं ! 

वक्त-वक्त पर बदला हुआ फैसला साथ रहेंगे 

दरअसल भाग जाने के बहाने जाना ही नहीं ! 

क्या थे हम? किसे थे हम, नाज़ था खुद पर 

आज खुद को देखकर कौन है जाना ही नहीं !

नारी तो बदलती ही है हर हाल में फिर भी 

फ़िज़ा उम्मीद उसी से क्यों? ये जाना ही नहीं !

~ फ़िज़ा 

No comments:

जाने क्या हुआ है

  आजकल में जाने क्या हुआ है  पन्द्रा -सोलवां सा हाल हुआ है  जाने कैसे चंचल ये मन हुआ है  बरसात की बूंदों सा थिरकता है  कहीं एक गीत गुनगुनाता...