Friday, April 01, 2022

सेहर


 सुबह की सर्द हवाओं से 

एक हलकी सी मुस्कान 

जैसे सूरज की किरणें 

फैलतीं हैं रौशनी ऐसे 

लगे गुलाबी सा गाल 

एक सादगी और शर्म 

दोनों ही साथ रहकर 

नज़रों को बेहाल करे 

पहली मोहब्बत का 

नज़ारा सेहर दिखाए 


~ फ़िज़ा 

No comments:

कोवीड इस अचूक से आ मिला !

 सकारात्मक  होना क्या इतना बुरा है ? के कोवीड भी इस अचूक से आ मिला  जैसे ही हल्ला हुआ के मेहमान आये है  नयी दुल्हन की तरह कमरे में बंद हो गय...