Sunday, June 07, 2020

इंसान नहीं न तू बना?



जातिवाद क्या है ये इस कदर अज्ञात था 
प्राथमिक कक्षा में रंगभेद तो पढ़ाया गया 
मगर तब उसे औरों की परेशानी बताया 
विशेषाधिकार में जीते हैं बहुत कम जानते हैं
शायद इसी वजह से जातिवाद, अस्पृश्यता 
एक कहानी, एक खबर और एक सबक 
जो पाठशाला में सभी को पढ़ाया जाता है 
कितने इन कहानियों से हकीकत को समझते ?
इसका तो कोई भी अनुमान नहीं लगाया 
मगर परीक्षा में अंक सभी को अव्वल मिला 
पढ़-लिखकर विद्वान तो बने मगर इंसान नहीं 
भेद-भाव के लिए कुछ नहीं तो कारण कई ढूंढे
रंग-भेद , तो जातिवाद, तो कभी धर्म-भेद 
जब इन सब से दिल भर जाए सभी का तो 
लैंगिक भिन्नता को ही एक खिलौना बना दिया 
सबसे अधिक अकल्मन्द ये कैसा तू बन गया ?
सबकुछ बन गया, बहुत कुछ कमा लिया मगर 
इंसान नहीं न तू बना? इंसान नहीं तू बना!

~ फ़िज़ा 
#blacklivesmatter , #NoJusticeNoPeace, #StopRacism 

No comments:

दिल की मर्ज़ी

  खूबसूरत हवाओं से कोई कह दो  यूँ भी न हमें चूमों के शर्मसार हों  माना के चहक रहे हैं वादियों में  ये कसूर किसका है न पूछो अब  बहारों की शरा...