Saturday, March 26, 2022

कल और आज

 


जब भी घर लौटते है 

बचपन आ जाता है 

आज और कल के 

झलक दिख जाते है  

समय ये ऐसा ढीट है 

एक जगह ठहरता नहीं 

बीते कल और आज में 

ये एक पल स्थिरता के 

फिर ढूंढ़ता रहता है 

मैं कौन हूँ ? क्यों हूँ?

इन सवालों के जवाब 

तब भी और अब भी 

ज़ेहन में घूमते रहते हैं !


~ फ़िज़ा 

4 comments:

Kamini Sinha said...

सादर नमस्कार ,

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (29-3-22) को "क्या मिला परदेस जाके ?"' (चर्चा अंक 4384)पर भी होगी।आप भी सादर आमंत्रित है..आप की उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ायेगी .
--
कामिनी सिन्हा


Dawn said...

Kamini ji aapka behad shukriya !!!
Abhar!

Jyoti Dehliwal said...

बहुत सुंदर।

Dawn said...

Dhanyavaad Jyoti ji

कोवीड इस अचूक से आ मिला !

 सकारात्मक  होना क्या इतना बुरा है ? के कोवीड भी इस अचूक से आ मिला  जैसे ही हल्ला हुआ के मेहमान आये है  नयी दुल्हन की तरह कमरे में बंद हो गय...