Wednesday, April 04, 2018

ख्वाब को कौन रोक सका है 'फ़िज़ा'


मेहकते हैं फूल मुरझाएं तो क्या
गंध फिर भी सुनहरी रेहा जाती है !

कुछ दिनों के लिए ही सही जानिये
अरमान संवर जाते हैं जीने के लिए !

कोई कली जब बाग़ में खिलती है
हों न हों ख्वाईशें जनम ले लेतीं हैं !

आसमान चाहे खिड़की से नज़र आये
उड़ने की चाह उसके भी मन में आये !

ख्वाब को कौन रोक सका है 'फ़िज़ा'
बंद ही नहीं खुली आँख से भी दिखते हैं !

~ फ़िज़ा 
#happypoetrymonth

No comments:

चाँद ही अपना लगा...!

आसमान को आज गौर से देखा कभी चाँद और बादल तो पंछी मगर आसमान को कम ही देखा चाँद ने अपनी अदा से खींचा बादलों ने अपनी उड़ान से सींचा पंछी...