Tuesday, April 24, 2018

श्याम की मखमली चादर



श्याम की मखमली चादर,
जैसे ही उसने बिछाई,
हल्का सा सुनेहरा रंग,
हर तरफ लहराई,
पंछियों को घर की याद आयी,
देर-सवेर दिन ढलती नज़र आयी,
सूरज का गोला झाड़ियों से,
मानों जाने की इजाज़त मांगता हो,
अपने आस-पास परछाइयों से
अलविदा कहता हुआ चलने लगा,
हर प्राणी को रात का एहसास दिलाता,
श्याम की चादर होने लगी काली,
इसी बहाने निशा लेने लगी अंगड़ाई!

~ फ़िज़ा
#happypoetrymonth

No comments:

कहीं आग तो कहीं है पानी ...!

कहीं आग तो कहीं है पानी प्रकृति की कैसी ये मनमानी हर क़स्बा, प्रांत है वीरानी फैला हर तरफ पानी ही पानी कहीं लगी आग जंगल में रानी वहीं च...