Posts

Showing posts from November, 2015

इस ज़िन्दगी का क्या?

एक उड़ान सा भरा लम्हा जैसे ...!

स्वर्ग है या नरक ...!!!

दिखावे की मुस्कराहट से चेहरा नहीं खिलता ।

इंसान होना भी क्या लाचारी है!

पतझड़ में गिरा पत्ता...!