Posts

Showing posts from January, 2016

न थी कभी...!

गणतंत्र दिवस की सुबह ...

अब लाश है 'फ़िज़ा' मिन्नतें नहीं करती...!

बस इंतज़ार रहता है ...!!!

तो मैं चलूँ?