Posts

Showing posts from 2017

जीने की राह है आज़ादी जब ...

तब आयी एक नन्ही कली...

जीवन का नाम है सिर्फ चलना !

हम दोनों हैं इंसान!

स्त्री को आम इंसानों जैसा जीने देना !

हाय-हाय करती 'फ़िज़ा' ऐसे सोच-विचार का

एक चेहरा ऐसा भी था भीड़ में ...

मुझको रोकने वालों ये बात कहनी थी तुमसे ...

ज़िन्दगी है तो हैं ज़िंदा वर्ना क्या है?