Sunday, April 30, 2017

कुछ लोग मोहब्बत करके... :)


कुछ लोग मोहब्बत करके 
समझते हैं किया एहसान 
अपने अंदर झांकते कम हैं 
चाहते हैं दूसरा रहे मेहरबान !

कुछ लोग मोहब्बत करके 
हो जाते हैं शायद  बर्बाद 
मोहब्बत के बदले मोहब्बत 
सिर्फ अपने मतलब की बात !

कुछ लोग मोहब्बत करके 
बन जाते हैं सबसे महान 
फिर करते रहते हैं दिखावा 
बनकर देवदास का गुनगान !

कुछ लोग मोहब्बत करके 
सच में हो जाते हैं आबाद 
नहीं गिला रेहता कोई शिकवा 
जब चाहा नहीं कोई सवाब !

कुछ लोग मोहब्बत करके 
मनाते शोक जीवनभर का  
नाउम्मीद, बर्बादी का जश्न 
परोसते गली ठेलेवाले जैसा !

कुछ लोग मोहब्बत करके 
खुश हो जाते हैं संसार 
आज मिले हैं तुमको 
कब ज़िन्दगी करदे इंकार !

~ फ़िज़ा 

No comments:

मोहब्बत ही न होता तो मैं कहाँ होता?

मोहब्बत में मैं नहीं होता तो खुदा होता  मोहब्बत ही न होता तो मैं कहाँ होता? फ़िज़ा में दिन नहीं होता तो क्या होता?  दिन नहीं जब हो...