Saturday, April 29, 2017

क्यों न जाएं हस्ते-हस्ते उस पार हम भी?


उसने कई बार अपनाया और ठुकराया भी 
दौर में कई बार कोई जिया और मरा भी !

ज़िन्दगी  के मायने कोई समझा या नहीं भी 
तोहमतें रोज़ नयी और होते रहे शिकार भी !

ऊंगलियां उठाने के मौके छोड़ता नहीं भी 
समाज की बातें करते समतावादी की भी !

हादसे हो जाते हैं, बर्बाद नज़र आता भी 
जड़ों की तलाश न करते ठहराते दोषी भी !

उसने कई बार अपनाया और ठुकराया भी 
इस वजह से खुद को पायी और खोयी भी !

बहुत दूर तक सफर था साथ न होकर भी 
सोचो कौन देता है आखिर तक साथ भी ?

जब आये थे रो कर इस जहाँ में हम सभी 
क्यों न जाएं हस्ते-हस्ते उस पार हम भी?

~ फ़िज़ा

No comments:

बचपन जवानी मिले एक दूसरे से...

मेरा बचपन याद आता है इस जगह  वही पहाड़ वही वादियां वही राह  वही पंछी झरना और वही राग  खुश हो जाता है मन इन्हीं सबसे  जब बचपन जव...