Posts

Showing posts from December, 2007

मेरे सपनों की बुनी एक किताब

तेरी आँखें क्‍यों उदास रेहती हैं?