Sunday, September 23, 2018

भेद-भाव का न हो कहीं संगम !






कविता पढ़ने -सुनने की नहीं है
इसे पहनो, पहनाने की ज़रुरत है
वक्त बे वक्त बरसों से ज़माने में हैं
महाकवि से लेकर राष्ट्र कवी तक हैं
देश के नागरिकों को जागरूक करते हैं
वीर रस की कवितायेँ लिखते हैं
इंसान को इंसान होने का एहसास दिलाते हैं
जाग मनुष्य तू किस लिए बना है ?
कीड़े-मकोड़ों सा जी-मरकर चले जाना है?
या अपनी मनुष्य जाती का मूल्य बचाना है ?
अरे! तू जाग अभी, वर्ना बहुत देर हो जाना है
लोगों के आँखों में धूल झोंकने का समां है
पुरानी रीती-रिवाज़ों को लेकर आना है
फिर वही 'बांटों और राज़' करो की भाषा है
हर पीढ़ी हर इंसान भुगत चूका है
हर कमज़ोर हर अनुगामी भुगतरहा है
तुम धैर्य का पथ पकड़ो और सवाल करो
क्यों इंसान - इंसान में भेद-भाव है
क्यों जाती-पाँति का रट आज भी है ?
क्यों धर्म की बातों से अधर्म का काम करते हैं
क्यों इंसानी रिश्तों में खून का रंग भरते हैं
अमन-शान्ति को क्यों नफरत से देखते हैं?
क्यों आखिर, इंसान सोचता नहीं?
क्यों इतिहास हमेशा दोहराता है?
क्यों न तुम आज तमन्नाओं को जगाओ
हर इतिहास को पलट कर नया ज़माना रचाओ
हर कोई इंसान और इंसानियत का हो धर्म
हर किसी के हिस्से में उसकी अपनी रोटी हो
अपना घर हो सबके लिए एक हो नियम
भेद-भाव का न हो कहीं संगम
ऐसा भी एक राष्ट्र हो जो ख्वाबों से उतरकर
आ जाएँ हकीकत में, जीवन के सरोवर में
इंसान कभी तो इंसान बन के जियो !!!

फ़िज़ा

Wednesday, September 05, 2018

मैं ज़िंदा हूँ शायद अभी कहीं से

 
मैं ज़िंदा हूँ शायद अभी कहीं से
के हर अन्याय और अत्याचार से
पसीजता है ये दिल कहीं अंदर से
कुछ न कर पाने की ये अवस्था से
जब देखते हैं नित-दिन अखबार से
सोशल-मीडिया भरा कारनामों से
गरीब वहीं आज भी बिलखते से
ज़िन्दगी इसके आगे नहीं कुछ जैसे
सेहता है अन्याय ऐसे मज़बूरी से
और अमीर वहीं अपने आडम्बरों से
पैसों से और उसके भोगियों से
नितदिन अत्याचार आम इंसान से
कभी तो अच्छे दिन के ख्वाब ही से
बड़ी-बड़ी बातों के ढखोसलों से
जी रहा कराह रहा काट रहा ऐसे
ज़िन्दगी एक ज़िम्मेदारी हो जैसे
इनकी बात आखिर कोई सुने कैसे ?

~ फ़िज़ा

Tuesday, August 28, 2018

जाग इंसान क्यों दीवाना बना ...!



सुना था जानवर से इंसान बना
मगर हरकतों से जानवर ही रहा  !
इंसान बनकर कुछ अकल्मन्द बना
मगर जात -पात  में घिरा रहा  !
वक़्त बे-वक़्त इंसान ज़रुरत बना
 
वहीं इंसान के जान का प्यासा रहा !
इंसान शक्तिशाली बलिष्ट बना
वहीं जानवर से भी नीचे जा रहा !
समय कुछ इस तरह है अब बना
जानवर से सीखना यही उपाय रहा !
यही तो आदिमानव से इंसान बना
फिर क्यों भूतकाल में बस रहा?
जाग इंसान क्यों दीवाना बना
वक़त सींचने का जब आ रहा !

~ फ़िज़ा

Thursday, August 16, 2018

कहीं आग तो कहीं है पानी ...!


कहीं आग तो कहीं है पानी
प्रकृति की कैसी ये मनमानी
हर क़स्बा, प्रांत है वीरानी
फैला हर तरफ पानी ही पानी
कहीं लगी आग जंगल में रानी
वहीं चाहिए बस थोड़ा सा पानी
मगर प्रकृति की वही मनमानी
संतुलन रहे पर ये है ज़िंदगानी
कहीं लगी है आग तो कहीं पानी 
दुआ करें बस ख़त्म हो ये अनहोनी
कभी नहीं देखी-सुनी ऐसी कहानी
कहीं आग तो कहीं है पानी
प्रकृति की कैसी ये मनमानी !

~ फ़िज़ा

Wednesday, August 15, 2018

ऐसा कहता है इतिहास हमारा

देश की एक सुन्दर छबि
मन में थी बचपन से कभी
कविताओं में तो उपन्यासों में
पढ़े आज़ादी के किस्से मतवाले
शहीदों की दिलेरी एक-दूसरे का दर्द
मानों सारा जहाँ एक परिवार हो
सुनहरे सपनों सा सुन्दर चित्रण
हुआ करता कभी किसी किताबों में
ऐसा कहता है इतिहास हमारा
जाने क्या हो गया उस देश को हमारा
पहले जैसा कुछ भी नहीं है बेचारा
न वो देशभक्ति न ही वो भाईचारा
हर कोई एक-दूसरे के खून का प्यासा
धर्मनिरपेक्ष राज्य था कभी ये प्यारा
अब हिन्दू - मुसलमान जान का मारा
न रहीं वो गलियां गुलजारा
जहाँ करते थे बच्चे खेला कभी
अमवा की वो डाली जिस पर
करती कोयल सबसे मधुबानी
अब तो वो दूकान भी नहीं हैं
जहाँ चाचा मुफ्त में दे दे गोली दो-चार
बहुत दुःख हुआ ये देख हर तरफ
मॉल, फ़ास्ट फ़ूड और विदेशी सामान
अब तो अपने देश में भी न मिले
देश की वो पहचान !!!

~ फ़िज़ा


Sunday, July 01, 2018

गर्मी वाली दोपहर...!


ऐसी ही गर्मी वाली दोपहर थी वो
हर तरफ सूखा पानी को तरसता हुआ
दसवीं कक्षा का आखिरी पेपर वाला दिन
बोर्ड की परीक्षा पढ़ाई सबसे परेशान बच्चे
मानसिक तौर से थके -हारे दसवीं के विद्यार्थी
पेपर के ख़त्म होते ही घर का रास्ता नापा
न आंव देखा न तांव देखा साइकिल पे सवार
घर पहुँचते ही माँ ने गरम-गरम खाना परोसा
भरपेट भोजन के बाद नींद अंगड़ाई लेने लगी
गर्मी के दिन की वो नींद भी क्या गज़ब की थी
बाहर तपती ज़मीन, आँखों में चुभते सूरज की लौ
घर के अंदर पंखे की ठंडी हवा की थपथपाहट
और पंखें की आवाज़ मानो लोरी लगे कानों को
एकाध बीच में कंकड़ों की आवाज़ जो की
कच्चे आमों से लगकर ज़मीन पर गिरती
मानो अकेलेपन को बिल्कुल ख़त्म करती
सुहाने सपने लम्बी गहरी नींद की लहरें
अचानक दोस्तों की टोली टपकती
पानी के छींटें बस नाक में दम था
आये थे बुलाने डैम में चलो नहाने
गर्मी का मौसम और ठन्डे पानी में तैरना
सोचकर उठा जाते-जाते बोल गया
'अभी आता हूँ अम्मा ' कहकर चला गया
फिर जब वो आया तो कफ़न ओढ़कर आया
अव्वल नंबर का तैराक था वो फिर क्या हुआ?
शायद बुलावा आगया परीक्षा जो ख़त्म हुआ
महीनो बाद रिजल्ट आया बहनों ने जाकर देखा
मुन्ना अव्वल दर्जे में पास हुआ था
काश, वो दोपहर ऐसे न होता तो
आज कैसा होता ?

~ फ़िज़ा

Tuesday, June 26, 2018

भयादोहन !



उसने सोचा नहीं था
ग़लती से पैर रखा था
निकालने से पहले उसने
नीचे खींच लिया था
सोचने में उसे अपनी
ग़लती लगी!
जिसका फायदा उसने
भी उठा लिया था
हर बात पर धमकाना
हर तरह का डर बसा देना
जब तंग आकर निडर हुई
तो और बातों से डराना
साल गुज़र गए लगा जैसे
ज़िन्दगी फँस सी गयी
जो भी हुआ
आज सांस लेने में
खुलासा हुआ !

~ फ़िज़ा

Saturday, June 16, 2018

हर उड़ान पर दी थप-थपाई...

दुआओं से मांगकर लाये
ज़मीन पर मुझे इस कदर
प्यार से सींचा निहारकर
भेद-भाव नहीं जीवनभर
हर ख्वाइश की पूरी खुलकर
उड़ने दिया हर पल पंछी बनकर
हलकी सी आंच आये तो फ़िक्र
ग़म को न होने दिया ज़ाहिर
हर उड़ान पर दी थप-थपाई
बढ़ाया हमेशा हौसला रहे कठोर  
उम्र का नहीं होने दिया एहसास
हर पल खैरियत पुछा मुस्कुराकर
ज़िन्दगी माली की तरह बिता दी
पिता ने बच्चों को सींच-सींचकर
बच्चे भी कितने खुदगर्ज निकले  
सोचते हैं काश! होते बच्चे अब तक !

~ फ़िज़ा

मोमबत्तियाँ...!



दूसरों को रौशनी देते हुए
पिघलती हैं मोमबत्तियां
कभी सोचा है, क्या गुज़रती है
क्या सोचती है ये मोमबत्तियाँ?
जल तो परवाना भी जाता है
शम्मा के पास जाते-जाते 
मगर मोमबत्ती रौशनी देते-देते 
खुद फ़ना हो जाती है
ज़िन्दगी कुछ लोगों की
सिर्फ मोमबत्ती बनकर
रेहा जाती है !
~ फ़िज़ा

Sunday, June 03, 2018

बस गुज़रे दिन बचपन की यादों में कहीं ...




आजकल दिल लगता ही नहीं कहीं
खुलकर दिल से कहने को भी कुछ नहीं
धक्का मार रहे हैं ज़िन्दगी चलती नहीं
जी रहे हैं क्यूंकि कोई और चारा भी नहीं
बस गुज़रे दिन बचपन की यादों में कहीं
ऐसा देखते-सोचते गुज़र जाए वक़्त कहीं
थक गए ज़िन्दगी की नौकरी करते यहीं
अब बक्श दो दफा करो हमें ज़िन्दगी
शायद कुछ नयापन लगे मौत के सफर में
आजकल दिल लगता ही नहीं कहीं
खुलकर दिल से कहने को भी कुछ नहीं

~ फ़िज़ा

Monday, May 28, 2018

कहने को दूर रहते थे हम...!




रिश्ता तो वैसे दोस्त का था
कहने को दूर रहते थे हम
जब मिलते थे कभी साल में
करीबी दोस्त हुआ करते थे हम
ज़िन्दगी में अपनों से सब कहते
या कभी अपना दुःख नहीं जताते
माता-पिता को दुःख न हो इस करके
तो दोस्त से सब कुछ क्यूंकि समझते थे
यही रिश्ता था मेरा इनसे और
इनका मुझ से जब जहाँ में वो थे
ज़िन्दगी एक थाली में परोसते थे
एक-दूसरे को हौसला देकर फिर
दोनों खूब हसंते और ज़िन्दगी जीते
कहीं एक उम्मीद,आस नज़र आती
अब तो दूर-दूर तक का भी पता नहीं
साल में दो बार जाऊं देश तब भी
मुलाकात की कोई सूरत नहीं
किस को सुनाएं अपनी दास्ताँ
जिस पे भरोसा करें वो न रहा
यादें अक्सर ख़ुशी तो कभी
ज़िन्दगी से बोरियत करवाती है
५४ के थे जब वो चले यहाँ से
जल्दी में गए वो इस तरह
कभी-कभी लगता है जैसे
मेरा भी ५४ का वक्त आ रहा है ...
~ फ़िज़ा

Monday, May 21, 2018

दिल में पनपते प्यार के बोल

कभी कुछ गरजते बादल
मंडराते हुए छाए बादल
एहसासों के अदल -बदल
विचारों में विमर्श का दख़ल
असमंजस, उलझनों का खेल
रखते हमेशा आसमां से मेल
फिर वो भी आये कुछ पल
बरसते कारवां लिए बादल  
गुद -गुदाहट से भरे हलचल
दिल में पनपते प्यार के बोल   
बरसना चाहे बादलों से घनघोर
हर बूँद एक बोसा भीगे गाल
भीगे फ़सानों से लरज़ते बाल
मानों डूबकर बरखा है बेहाल
हर तरफ से शुक्रगुज़ार बहराल  
गरजने से बेहतर बरसते बादल
यहाँ दरअसल हैं मुस्कुराते बादल !

~ फ़िज़ा

Monday, April 30, 2018

चंद यादों के बगुले ...!

मुझे घेर रही हैं
चंद यादों के बगुले
कभी बहुत दूर तो
कभी बहुत करीब
करते हैं भावुक कभी
तो करते उत्सुक मुझे
बढ़ जातीं हैं आकांशा
जब जाते गहराई में  
खो देते हैं आज मेरा
जुड़ जाते हैं बगुले संग
उड़ान भरने जग सारा
आहट ने दस्तख दिया  
रूबरू आज से हुआ  
मुझे घेर रही हैं
चंद यादों के बगुले
कभी बहुत दूर तो
कभी बहुत करीब !

~ फ़िज़ा 
#happypoetrymonth

Sunday, April 29, 2018

कैसा हैं ये इंसान जगत भी ...!

एक कबूतर ने दूसरे से कहा
क्यों ये इंसान इतने लड़ते हैं
बात-बात पर हक़ जताते हैं
हक़ जताकर भी कितने मजबूर हैं
ये बात सुनकर दूसरे कबूतर ने कहा
इंसान होकर भी ये मजबूर हैं ?
किस बात का फिर हक़ जताते हैं?
इस पर पहले कबूतर ने कहा
बहुत ही मतलबी और स्वार्थी हैं
किसी भी जगह जाकर रहते हैं
और उस पर अपना हक़ जताते हैं
अपने ही जैसे अन्य किसी को
आने या रहने नहीं देते हैं
हर समय आज़ादी का नाम
मगर चारों तरफ पहरा रखते हैं
इतना स्वार्थी और डरपोक हैं
अपने ही जैसों को दूर करते हैं
इंसान एक दूसरे के खून के प्यासे
सीमाएं बनाकर रखते हैं
एक जगह से दूसरे जगह
हम तुम जैसे नहीं जाते हैं
इनकी हर जगह, हर राज्य
सीमाओं से बंधा हुआ है
दूसरा कबूतर दया के मारे
सोचता ही रहा गया तिहारे
कैसा हैं ये इंसान जगत भी
अकल्मन्द होकर भी जाने
क्यों अपने ही लोगों संग
यूँ व्यवहार करें, आखिर क्यों?

~ फ़िज़ा 
#happypoetrymonth

Saturday, April 28, 2018

एक भयानक सपना ...!




किसी के ख़याल में
मैं आज भी हूँ
कोई दूर है तो भी
सोचता है मुझे
सालों बात नहीं होती
अन्य माध्यम से
जानकारी रखली
खुश हुए
जब सवेरे की नींद में
बुरा सपना जो देखा
जिसमें मैं गंदे कमरे में
फँसी हुई कहीं जकड़ी हुई
लगे सवेरे-सवेरे फ़ोन करने
हाल-चाल पूछने
मेरी खैरियत की दुआ करने
शायद जीने का अर्थ मिल गया
शायद इस लायक तो मैं रही
किसी को मेरी खैरियत की
फ़िक्र, ख़याल, शुभिच्छा,
धन्य हूँ मैं इस जीवन में
कोई इस लायक तो समझा हमें
दोस्ती वही है और सिर्फ वही !

~ फ़िज़ा 
#happypoetrymonth

Friday, April 27, 2018

खोखले इंसान




खोखले मकान
खोखले दूकान
खोखले अरमान
खोखले इंसान
खोखली हंसी
खोखली दोस्ती
खोखली सोच
खोखली पहचान
जीवन व्यर्थ है
खोखलेपन में
व्यर्थ है दिखावा
दोहरी ज़िन्दगी
स्वयं खोखलेपन में
घूम हैं आज इंसान 

~ फ़िज़ा 
#happypoetrymonth

Thursday, April 26, 2018

कब होगा इंसान आज़ाद?

उसका सिर्फ पहनावा ही था
जो उसे किसी राज्य से
किसी जाती से
तो किसी धर्म से
किसी खास वर्ग से
होने का पहचान दें गयी !
पास बुलाकर जब
नाम पुछा तो
सब कुछ उथल-पुथल
तुम? हिन्दू?
या फिर मुस्लमान
हिन्दू से ब्याही ?
या फिर कहीं तुम
झूठ तो नहीं बोल रही?
इंसान कितने ही
आडम्बररुपी ज़ंजीरों से
बंधा है और असहाय है
कब होगा इंसान आज़ाद?
इन सब से, आखिर कब?

~ फ़िज़ा 
#happypoetrymonth

Wednesday, April 25, 2018

नाबालिग थी वो !



पहली बार जब बत्तमीज़ी की थी
तभी बहुत ही अजीब लगा था
समझ नहीं आया कैसे कहें
किस से करें शिकायत
जाने क्या ग़लत हो जाये
लोगों को पता चले तो
जाने क्या लोग कहेंगे
इसी असमंजस में
अपमान सहते रहे
और फिर एक दिन
जो हरकत की उसने
सिर्फ चीखें निकली
बाद में लाश !
कौन थी वो
सबने पुछा
नाबालिग थी वो !

~ फ़िज़ा 
#happypoetrymonth

Tuesday, April 24, 2018

श्याम की मखमली चादर



श्याम की मखमली चादर,
जैसे ही उसने बिछाई,
हल्का सा सुनेहरा रंग,
हर तरफ लहराई,
पंछियों को घर की याद आयी,
देर-सवेर दिन ढलती नज़र आयी,
सूरज का गोला झाड़ियों से,
मानों जाने की इजाज़त मांगता हो,
अपने आस-पास परछाइयों से
अलविदा कहता हुआ चलने लगा,
हर प्राणी को रात का एहसास दिलाता,
श्याम की चादर होने लगी काली,
इसी बहाने निशा लेने लगी अंगड़ाई!

~ फ़िज़ा
#happypoetrymonth

Monday, April 23, 2018

मंडराते भँवरे ने कहा कुछ ...!




झूमते फूंलों की डालियों पर
मंडराते भँवरे ने कहा कुछ
जाने क्या सुना कलियों ने
मुँह छिपकर हँसने लगीं
फूलों को शर्माते देख
माली डंडी लेकर भागा
भँवरे ने भी कसर नहीं छोड़ी
लगा मंडराने माली के कानों में
वही गीत जिसे सुनकर फूल शर्मायी
कहाँ कोई रोक सका है दीवानों को
जहाँ प्यार है वहां मस्तियाँ भी हैं
बगीया में कुछ इसी तरह का
जश्न फूलों के बीच चल रहा है !

~ फ़िज़ा 
#happypoetrymonth

Sunday, April 22, 2018

धुप - छाँव



धुप - छाँव
सूखा - गीला
हरा - भरा
काला - नीला
मीठा - खट्टा
अच्छा - बुरा
ऐसा ही होता है
ज़िन्दगी का गाना
सुबह - शाम
रात - दिन
अँधेरा - उजाला
हँसना  - रोना
बोलना - रूठना
यही है अब तो
रहा अफसाना
चलो ज़िन्दगी को
आज़माके देखें
वैसे भी यहाँ 
आज हैं - कल नहीं
ये भी है बेगाना !
~ फ़िज़ा 
#happypoetrymonth

Saturday, April 21, 2018

जो भी देना स्वार्थरहित करना ...!




प्यासे को पानी और भूखे को खाना
हर किसी की ज़रुरत,आये हैं तो जीना
यहाँ क्या तेरा या मेरा करना
जब सबको एक ही तरह है जीना
किसी का नसीब ज़रुरत से ज्यादा मिलना
किसी को ज़रुरत से भी कम संभालना
अहंकार के लिए नहीं है कोई ठिकाना
बस थोड़ी मदत कर प्यार निभाना
चाहे जिस तरह भो हो सेवा करना
अपने हिस्से का दान ज़रूर तुम करना
जो भी देना स्वार्थरहित करना
नाम और प्रसिद्धि के लिए कुछ मत करना
व्यर्थ का है दान-पुण्य का काम वर्ना !
~ फ़िज़ा 
#happypoetrymonth

Friday, April 20, 2018

चाँद ही अपना लगा...!



आसमान को आज गौर से देखा
कभी चाँद और बादल तो पंछी
मगर आसमान को कम ही देखा
चाँद ने अपनी अदा से खींचा
बादलों ने अपनी उड़ान से सींचा
पंछी हमेशा गीतों में उलझते रहे
और आसमान को कम ही देखा
आज नज़ारे कुछ अलग थे
समां भी कुछ यूँ ज़मीन से जुडी
यंत्रों को सजाकर आसमान से
दोनों का संगम कुछ यूँ हुआ
आसमान को आज करीब से देखा
चाँद को नज़रों के करीब देखा
कुछ पल के लिए घर अपना लगा
सितारों को भी जी भर के देखा
शाम की रंगत में छिपे थे जो
अँधेरा होते ही सबको देखा
आसमान को आज गौर से देखा
चमकीले सितारों को देखा
युरेनस, सीरियस ग्रहों को देखा
जितने भी करीब से उन्हें देखा
उनमें सिर्फ चाँद ही अपना लगा
आसमान करीब से अच्छा लगा
सितारे वैसे भी दूर ही लगे
अब उनसे कोई गिला भी नहीं
मेरे चाँद से तो दूर ही लगे
आसमान करीब से अच्छा लगा !

~ फ़िज़ा
#happypoetrymonth

Thursday, April 19, 2018

जीने का मज़ा लूट लेंगे ज़िन्दगी !

जितना सताएगी तू ज़िन्दगी
उतना ही प्यार करेंगे ज़िन्दगी
सितम हर तरह के तू ढायेगी
तब्बसुम से सेह लेंगे ज़िन्दगी
कठिनाईयाँ तो कई आएँगी
उतना ही कायल हमें पायेगी
हर घूँट में कड़वाहट भरी होगी
ज़हर पीने में मज़ा तभी आएगी
जितना हमें तू रोज़ तड़पायेगी
जीने का मज़ा लूट लेंगे ज़िन्दगी
कौन जीता है जीने के लिए ज़िन्दगी
तुझे झेलकर देखना है, क्या है ज़िन्दगी !

~ फ़िज़ा 
#happypoetrymonth

Wednesday, April 18, 2018

ऐ 'फ़िज़ा' चल दूर ही चलें कहीं !



इस जहाँ में कोई किसी का नहीं
पता है तब क्यों आस छोड़ते नहीं

नकारना ही है हर तरह जहाँ कहीं
गिरते हैं क्यों इनके पाँव पर वहीं

कोशिशें लाख करो सहानुभूति नहीं
क्यों इनकी मिन्नतें करते थकते नहीं

मोह-माया से अभी हुए विरक्त नहीं
बंधनों से अपेक्षा भी कुछ हुए कम नहीं

बंधनों को छुटकारा दिला दें कहीं 
वक्त आगया है बुलावा आता नहीं

ऐ 'फ़िज़ा' चल दूर ही चलें कहीं
प्यार न सही नफरत करें भी नहीं !

~ फ़िज़ा 
#happypoetrymonth

Tuesday, April 17, 2018

वक्त बे वक्त, वक्त निकल चूका !




वक्त बे वक्त, वक्त निकल चूका
सोचता हूँ मैं किधर जा चूका?

समय का क्या है चलता ही रहा
मुझे साथ क्यों लेकर चलता रहा?

जाना है वर्त्तमान से भविष्य की ओर
मुझे क्यों नहीं छोड़ दिया भूतकाल में?

वक्त भी बड़ा अजीब खिलाडी है
खेलते-खेलते हमें संग क्यों ले गया?

क्या कहें वक्त-वक्त की बात है
आजकल हमारा वक्त ही खराब है!

~ फ़िज़ा  
#happypoetrymonth

Monday, April 16, 2018

मेरा हर गुनाह अक्षम्य है!




मुझे सब तोहमतें मंज़ूर हैं,
मेरा हर गुनाह अक्षम्य है,
मेरा अस्तित्व ही भ्रष्ट है,
मुझे मेरी हर सज़ा मंज़ूर है,
मुझे मार दो या काट दो,
मुझे हर रेहम मंज़ूर है,
यूँ जीना इस तरह मेरा,
कम नहीं किसी दंड से,
मौत मेरे लिए है रेहम,
पता है न मिलेगी वो मुझे,
किये हैं जो दुष्कर्म मैंने,
जाएगी मेरे संग रहने,
खुद को न यूँ सज़ा दो,
ये बहुत कठिन मेरे लिए,
रेहम करो ज़िन्दगी पर,
जुड़े हैं ज़िंदगानी तुम पर,
ख़ुशी से सींच लो तुम,
जीवन अपना संवारकर !
~ फ़िज़ा 
#happypoetrymonth

Sunday, April 15, 2018

दर्द होता है सीने में मेरे भी मगर ...!




तड़पता है दिल किसी को देख के
कोई माने या न माने दुख होता है !

कभी चाहा नहीं जानकार क्रूरता
अनजाने में ही ग़लती हो जाती है !

दर्द होता है सीने में मेरे भी मगर
कैसे इज़हार करूँ जब मानोगे नहीं !

किसे सज़ा दे रहे हो ये जानते नहीं
प्यार करते हैं तभी तो दुखता है दिल !

क्यों बैर द्वेष से जीना है ज़िन्दगी
जब कुछ पल की ही है ज़िन्दगी !

जो कहो करने के लिए है तैयार फ़िज़ा
सब छोड़कर बस हुकुम तो करो ज़रा !  

~ फ़िज़ा 
#happypoetrymonth

Saturday, April 14, 2018

शर्मसार दुर्भाग्य




अमानवीय क्रूर जघन्य
लाचार मायूस मनहूस
बेबाक शर्मनाक खूंखार
सर्वनाश हिंसक हैवान
बलात्कारी जानवर
अन्याय असहनीय
शर्मसार दुर्भाग्य
बेटी माता-पिता
मजबूर इंसान
~ फ़िज़ा 
#happypoetrymonth

Friday, April 13, 2018

नारी जाती का कोई सम्मान नहीं है!




किताबों में पढ़ा था
ऐसा भी एक ज़माना था
औरत से ही जीवन चलता
और घर भी संभलता था !
फिर एक ज़माना वो भी आया
नारी शक्ति, नारी सम्मान
का एक चलन ऐसा भी आया
ऊँचा दर्ज़ा और सम्मान दिया !
फिर भी नारी का ये हाल रहा
"अबला जीवन हाय तेरी यही कहानी
आँचल में है दूध, आँखों में पानी"
हाड-मांस की वस्तु बनी नारी!
फिर ये भी ज़माना आया
एक समान एक इंसान का नारा आया
जवान-बूढ़े-बच्चे सभी एक समान
फिर बलात्कार क्यों स्त्री पर ढाया?
मेहनत औरत भी करे, जिम्मेदारी भी ले
औरत कंधे से कन्धा मिलाकर चले
बस एक ही वजह से वो शिकार बने
दरिंदे औरत को हवस की नज़र से देखे !
पढ़ा है बन्दर से इंसान बना पर
बन्दर हमसे अक्कलमंद निकला
बोलना नहीं सीखा तो क्या हुआ
प्यार-मोहब्बत का इज्ज़्हार तो आया !
इंसान अपनी बुद्धि से मात खाया
अपने ही लोगों को समझ न पाया
औरत को समझने का भाग्य न पाया
बन्दर से इंसान दरिंदे का सफर पाया!
किसको दोश दें ऐसा वक़्त आया
बलात्कारी या उसको आश्रय देने वाला
गुनहगारों को सज़ा दें तो क्या दें
हर शहर हर गली की कहानी है !
"अबला जीवन हाय तेरी यही कहानी
आँचल में है दूध, आँखों में पानी"
मैथिलि जी का लिखा आज भी सही है
नारी जाती का कोई सम्मान नहीं है!
~ फ़िज़ा

Thursday, April 12, 2018

यादों की बारात कुछ यूँ निकले...!


यादों की बारात कुछ यूँ निकले
बरसों भुलाये किस्से चले आये
वो पल जब इतने बड़े शहर में
अकेले नौकरी ढूंढ़ने हम निकले,
चारों तरफ मायूसी के आसार निकले !
रात भर बाइबिल से किस्से निकले
उसके बाद प्रार्थनाओं के लगे मेले
हर बात पर यीशु के गुणगान मिले
धर्म बदलने के और उसके फायदे सुने
हर कोई अपनी जेबें भरने में तुले !
वो पल भी आया जब सौदे होने लगे
यीशु के गुणगान को अनेक भाषाओँ में लिखें
वक्त मिलने पर बच्चों को ट्यूशन पढ़ाएं
रसोई में साफ़-सफाई और सब्जियां काटें
किराया देकर भी नौकरों सा काम करवाएं !
ऐसा भी एक पल था जब लोग हम से मिले
सूरत पर लिखवा के आये थे जो चाहे करलें
अच्छाई करने और नेक रहने की सज़ाएं मिले
घिसे बहुत पापड़ वक़त के रहे हमेशा सताए
एक चीज़ नहीं खोयी कभी हौसला बचाये रखे !

~ फ़िज़ा  
#happypoetrymonth

Wednesday, April 11, 2018

वर्षा की बौछार...!

शाम अकेली थी
थकी-जीती ज़िन्दगी,
हारी नहीं थी ;)
बच्चों से बतियाकर,
अपने कुत्ते के संग खेलकर,
जब ख़याल आया,
गरम-गरम फुल्के,
और वसंत-प्याज़ की सब्ज़ी,
मारे भूख के दौड़ने लगे चूहे,
फिर एक न देखा इधर-या उधर,
जैसे ही खाने बैठी,
वर्षा की बौछार,
लगी भूमि को तृप्त करने में,
जब तक प्यास रहे अंतर्मन में,
तब तक ही रहे कीमत सब में !
~ फ़िज़ा

Tuesday, April 10, 2018

इक्कीस साल पहले मुझे क्या पता था...!



इक्कीस साल पहले मुझे क्या पता था,
मैं कहाँ रहूंगी और क्या कर रही हूँगी,
इक्कीस साल पहले अपना शहर छोडूंगी,
वो भी अकेले बिना किसी के सहारे,
सोचा न था कभी इतना लम्बा सफर,
ज़िन्दगी जाने किस मोड़ ले आये,
मोड़ का क्या हर तरफ मुड़ती है,
बस ज़िन्दगी जाने किस से जोड़ती है,
किसे वजह और किसे अपना बनाती है,
फिर नए लोग और नए नाते पनपते हैं,
ऐसे ही दुनिया में लोगों से लोग मिलते हैं,
जाने कहाँ होंगी इक्कीस साल और बाद,
यहाँ, वहां या फिर किसी नए देश में,
ज़िन्दगी साथ देती है तब तक चलेंगे,
नए लोगों से नए रिश्तों से सजायेंगे सफर,
अभी बहुत दूर मुझे और जाना है,
इक्कीस साल का नज़ारा और देखना है,
शायद तब लिख सकूँ या न लिख सकूँ,
यादों के भवंडर में यूँ ही खो जाना है !
~ फ़िज़ा  
#happypoetrymonth

Monday, April 09, 2018

काश! लौट आता वो मधुर जीवन !



गगन में खुली आसमान में
पंछियों को उड़ते देखा जब
मधुर बचपन याद आया तब
परिंदों से कभी सीखा था मैंने
नील गगन में उड़ते-फिरते
एक डाल से दूसरे डाल पर
पकड़म-पकड़ाई खेलना और
पास आते ही फुर्र हो जाना
बातों से कुछ और याद आया
पेड़ों पर चढ़कर काली-डंडा
बंदरों की तरह झलांग लगाना
कितने ही विस्मर्णीय थे दिन
शामों को जब घर-आँगन में
दिया जलाते पीछे से बुलावा आये
हाथ-मुंह धोकर हाथ जोड़ लो
सद्बुद्धि के लिए दुआ कर लो
कितने मासूम थे वो पलछिन
आज परिंदों को देख याद आया
काश! लौट आता वो मधुर जीवन !
~ फ़िज़ा
#happypoetrymonth

Sunday, April 08, 2018

बहुत दूर का सफर तय हुआ जब हुआ..!




यूँ ही खिड़की से जब बाहर देखा
सूरज की मुस्कान को पहले देखा
ताड़ के पत्तों को हिलते-डुलते देखा
कुछ पंछियों को गगन में चहचहाते देखा
कुछ तो बिजली के तारों पर झूलने लगीं 
यही दृश्य बचपन की याद दिला गया
ऐसी ही खिड़की मेरे कमरे में भी थी
जहाँ से संसार की ख़ुशी झलकती थी
बस फर्क सिर्फ इतना ही था तब
पंछी अपने लगते थे पेड़ आमों के होते थे
आज कुछ अजनबी पेड़ों को देखा 
मन अनायास उन खिड़कियों में झांकने लगा
बहुत दूर का सफर तय हुआ जब हुआ
सोचा नहीं था तब इतनी दूर आजायेंगे
चलते-चलते हम कहाँ के थे और कहाँ के हो गए?
~ फ़िज़ा 
#happypoetrymonth

Saturday, April 07, 2018

एक सपना यूँ भी आया ...!




कल रात शारुख आये थे
सुना शूटिंग हैं यहाँ पर
देखते ही मुझे गले लगाया
लगे  हाथ मैंने भी बताया
यहाँ सामने ही है घर मेरा
देख उस तरफ पुछा मुझ से
वो जो खड़ी हैं मम्मी है तुम्हारी?
हामी भरते मैंने भी सर हिलाया
शूटिंग करते हुए छलांग यूँ लगाया
सीन कट सुना फिर बालकनी में पहुंचे 
देखा मम्मी को गले लगाकर पाँव छूआ
जाने क्या होने लगा डायरेक्टर ने
कैमरा हम पर भी घुमाया
लिए कुछ डांस सीन फिर
हम भी निकल आये
दूसरे दिन एक फ़ोन आया
महिला की आवाज़ में नाम हमारा बुलाया
फ़ोन पर बात-चीत हुई
कहने लगीं रीशूट पे बुलाया
सोचने लगे हम कहाँ शूट कर रहे
इतने में वहां से पुछा भारततनाट्यम
कर लेती हो?
हमने झिझकते आवाज़ में कहा नहीं,
मगर सीखा दो तो कर भी लेंगे पोज़
हंसकर बोली हरामज़ादी काहे डरती हो
ग़ुस्से से हमने भी टर्राया
कैसी जुबान है ये तुम्हारी
अच्छी हिंदी की करती हो बदनामी?
नाम क्या है तुम्हारा जनानी ?
कहने लगी डॉली हृषिकेश
सुनते ही फिर डाँट लगाया
अपनी जगह की लाज रख कन्या
भाषा कभी बुरी नहीं होती
करते हैं उसे हम बेबुनियादी
उसे पता नहीं था माइक के पास
थी वो खड़ी
शारुख क्या सब यूनिट ने सुन ली
शर्म से वो 'सॉरी' बोली
परसो की डेट है आजाना शूटिंग पर
कहकर फ़ोन रख दी !
सोचने लगे २ दिन है हाथ में
थोड़ी कसरत हो जाये
शेप में रहेंगे हम जब शूटिंग हो जाए
तीसरा दिन भी आया
पहनावा बड़ा सजीला था
दो-चार पोज़ हमें सिखाया
भरतनाट्यम का सीन भी करवाया
कट कट करके सीन पूर्ण करवाया
मुस्कुराते हुए धन्यवाद शारुख को कहा
फिर कुछ तकिये की बिस्तर पर
रखने के आभास ने जगाया
एहसास हुआ हम नींद में थे
सोचने लगे ये शारुख क्यों आया?
सपना ही सही पर कहाँ से आया?
~ फ़िज़ा  
#happypoetrymonth

Friday, April 06, 2018

तो क्यों न कहीं भटक आते हैं...!

नींद आजकल अच्छी आती है,
मगर जाने का नाम न लेती है,
किसी ख्वाब में ले जाती है,
मानों भटकाना चाहती है,
ख्वाब मगर अच्छी आती है,
धुंदली यादों में समेट लेती है,
वहां से निकलने नहीं देती है,
मानों भटकाना चाहती है,
यादें फिर गुदगुदा जाती हैं,
तभी दिल कहीं घूम आती है,
सेहर से शब् जाने कहाँ होती है,
मानों भटकाना चाहती है,
अब दिल भी सोच रहा है,
भटकाने का ही इरादा है,
तो क्यों न कहीं भटक आते हैं,
चलो कहीं दूर सैर करके आते हैं !
~ फ़िज़ा 
#happypoetrymonth

Thursday, April 05, 2018

आदमी-औरत का भेदभाव यहाँ भी



देख उसकी कहानी आज
दर्द हुआ कहीं सीने में आज
जाने कितने ही त्याग स्त्री करे
उसे साधारण ही समझा जाए
वहीं गर वो पुरुष करें तो हाय -हाय !
देख विन्नी मंडेला की कहानी
अफ़सोस हुआ और आँखों में पानी
हर तरह के भेदभाव संसार में होते हैं 
आदमी-औरत का भेदभाव यहाँ भी
वो भी पति करे पत्नी पर हाय-हाय !
कालकोठरी में बिताये २७ साल
कार्तिकारी बनकर टिकी पत्नी बेहाल
निकाल लायी पति को जेल से बाहर
साथ रही हर दुःख-सुख संग बिताये
पद और पत्नी में, छोड़ा पत्नी को हाय -हाय !  

~ फ़िज़ा 
#happypoetrymonth

Wednesday, April 04, 2018

ख्वाब को कौन रोक सका है 'फ़िज़ा'


मेहकते हैं फूल मुरझाएं तो क्या
गंध फिर भी सुनहरी रेहा जाती है !

कुछ दिनों के लिए ही सही जानिये
अरमान संवर जाते हैं जीने के लिए !

कोई कली जब बाग़ में खिलती है
हों न हों ख्वाईशें जनम ले लेतीं हैं !

आसमान चाहे खिड़की से नज़र आये
उड़ने की चाह उसके भी मन में आये !

ख्वाब को कौन रोक सका है 'फ़िज़ा'
बंद ही नहीं खुली आँख से भी दिखते हैं !

~ फ़िज़ा 
#happypoetrymonth

Tuesday, April 03, 2018

ढलती शाम की काली रात ...!


शाम ढल रही थी जैसे- जैसे
उसकी उम्मीद भी जाती रही वैसे
जाने क्यों दिल हसास सा रहा ऐसे
न कोई आहट बिलकुल वीरान ऐसे 
मानो रात निगल रही है शाम को ऐसे
उसका जी घबराता, नज़रें ढूंढ़ती किसे
कोई है भी तो नहीं आस-पास ऐसे
जाने कैसे रात थी बहुत साल हुए जैसे
किसी सोच में पड़ा मुसाफिर सा जैसे
पास में ठंडा मटका नहीं सांप जैसे
बदन से सिकोटकर न सो सकते ऐसे
न ही इतनी रात कोई जागे ऐसे
कटी रात कुछ ऐसे पंछी चेहके ऐसे
तब खुली आँख देखा सेहर हो गयी जैसे
हाँ ! मैं क्यों घबरा रहा था ऐसे
इस रात की सेहर ही न हो जैसे?
मायूसी की भी हद्द है यार कैसे 
कल रात क्यों लगी लम्बी रात ऐसे
जिसकी कोई सुबह ही न हो जैसे !!!
~ फ़िज़ा 
#happypoetrymonth

Monday, April 02, 2018

बस आगे निकलता ही चल ...!


दिल की अस्थिरता भी देखिये न
ठेहरता ही नहीं एक जगह टिक के
आवारा बादलों की तरह भटकता
कभी इस किनारे तो कभी उस पार
जहाँ कहीं मिल जाए प्यार का इज़हार
बेशर्म रुक जाता है आसरे की आस में
ठोकरें खा कर भी न सीखे ऐसा दिल
जाने किस काम का है ये नादान दिल
बंधनों के खुलने तक हो आज़ाद ये दिल
उसी नहर के पानी की धारा समान
जो की बहती रहती है अनजान डगर
दो किनारों के बीच गुज़रती हुई
प्यासों की प्यास बुझाती हुई 
तीव्रगति से रास्ता बनाता तू चल
बस आगे निकलता ही चल !

~ फ़िज़ा

Sunday, April 01, 2018

अभी मंज़िल बहुत दूर है !


पत्ते भी तरुवर से
टूट के बिखरते हैं
पतझड़ के बहाने
जाने कितने ऐसे
राज़ हैं छुपाये इन
पत्तों ने !
फूल खिलाने में कई
बीत जातें हैं साल
वोही कली से फिर
फूल बनकर तोड़ी
जाती है तरुवर से
हाल तरुवर का
दरख़्त का जाने
कोई ना !
फ़िज़ा का रंग तो देखो
हर मौसम में
हर पहर में ख़ुशी का
आलम संजोय रखना
जैसे दिनचर्या की रैना
वोही आलम है अपना
सबका वोही चलन है
जाने जो जाने वो राज़
जो न जाने वो रहा
वक़्त का शिकार !
दरख्तों से फूल-पत्तियों से
सीखा है मैंने हँसना
चाहे धुप हो या छाँव
या हो आंधी और तूफ़ान
चल मुसाफिर अकेले निकल
अभी तेरी मंज़िल है दूर
दूर वहां जहाँ सभी न आएं
कोई साथ दे न पाए तो
साथ ले भी न जाए
चलना ही सफर का
नियम है, मुड़के न देख
अभी मंज़िल बहुत दूर है  !
#happypoetrymonth
~ फ़िज़ा

Saturday, March 17, 2018

मचलते हैं अरमान मेरे दिल में जवां ...!


अंगड़ाई लेते हुए बादलों का कारवाँ 
चले हैं बरसाते हुए झरने कई यहां 
मचलते हैं अरमान मेरे दिल में जवां  
सौंधी खुशबु गिली मिटटी नहरें यहाँ 
हरियाली हर तरफ गुलाबी दिल कहाँ  
भीगे रुत में भीगे अरमान भीगे ये समां 
मुझे कायल करते हैं पिया की अदा 
बेबस हूँ आज बस निकल जाने दो 
भीगना है मुझे जैसे भीगे हैं अरमां   
कोई केहदो जहाँ से न आये यहाँ 
हम हैं ग़ुम अपने ही खवाबों में जहाँ 
सिर्फ हम हैं वो है और ये समां 
अंगड़ाई लेते हुए बादलों का कारवाँ 
चले हैं बरसाते हुए झरने कई यहां 
मचलते हैं अरमान मेरे दिल में जवां 
~ फ़िज़ा 

Wednesday, March 14, 2018

नयी खोज में नया सफर है ...


नए डाल पर फिर इतराने 
निकल पड़ा है चंचल मन 
नयी कोंपलें, नयी पत्तियां 
नयी खुशबु सी महकाते चल   
छोड़ पुराने पगडंडियों को 
नयी खोज में नया सफर है 
भीगे ज़मीन में खुले आसमान पे 
ख़्वाब सजाने और संवारने
कोमल अरमान खिल गए हैं 
वही जोश है वही हौसला भी 
जो कभी था बचपन में साथी 
नए डगर की तलाश आज 
फिर मुझको युवा बना गया 
नए सलिखे नयी बातें सब 
सीखने के फिर दिन आये हैं 
चलो बैठकर ज्ञान ले लें 
कब ऐसा मौका मिल जाये 
नए खेत में नए खलियानों में 
खेल-कूदने के दिन आये हैं 
नए डाल पर फिर इतराने 
निकल पड़ा है चंचल मन !

~ फ़िज़ा 

Saturday, March 10, 2018

ज़िन्दगी को गले लगा लें ...!


एक रिश्ता सा बन गया है 
अब तो जैसे 
खांसी न आये तब भी 
लगता है आ रही है !
सांस चल रही है ज़िन्दगी की 
मगर ऐसा लगता है अब 
खांसकर तबाहकर  
अब गयी तब गयी !
मौत भी एक फरिश्ता है 
जो के रिश्तों की तरह 
बेकार होगयी जाने क्यों 
झांसा देकर चली गई !
ज़िन्दगी को गले लगा लें 
शायद इसे बहका सकें 
हंसती है दूर से मगर 
पास से रुलाती है !

~ फ़िज़ा

Monday, March 05, 2018

उसके मिलने की ख़ुशी का आभास ...!

खिलने के पेहले और 
खिलने का वो प्रकरण 
जाने कितनी प्रक्रिया से 
गुज़रते एहसास नितदिन !
वहीं खिल जाने के बाद 
खिलकर बिखरने का पल 
ऊंचाइयों से गिरने का डर  
ऊंचाई से गिरते वक्त का भय !!
जाने कितने ही एहसास दबाये 
मानसिक वेदना का घूंट पीकर 
अनजान नज़ारों का भय संजोकर
जीवन को बना लिया एक लिबास !!!
फिर वो वक़्त भी आया मेरे पास 
घुटने टीकाकार उठने का प्रयास 
किसी भय का नहीं अब निवास 
उतार फेंका डर का वो लिबास !!!!
आज़ादी मिली नहीं मगर फिर भी 
उसके मिलने की ख़ुशी का आभास 
समझा सकता है दर्द की कश्ती हज़ार 
आखिर उड़ सकती हूँ मैं भी पंख पसार !!

~ फ़िज़ा 

Sunday, February 18, 2018

नगीने में नगीना ...!


नगीने में नगीना 
मेरे दिल में है एक आईना 
जो आँखों से देखता है 
दिल के किस्से सफीना
खुला आसमान है 
अमन का चमन है 
खुशियों का खज़ाना 
बंटोरते सभी यहाँ
मोहब्बत का आशियाना 
नगीने में नगीना 
तेरे दिल में भी है आईना 
कभी तो झाँक के देख 
उसे भी है कुछ कहना 
तनिक तुम्हें समझाना 
आँख से आँख मिलाना 
प्रीत की खुशबु फैलाना 
कभी ख़याल आये बेगाना 
तो थोड़ा रुक कर सोचना 
नगीने में नगीना 
अपने दिल के आईने को देखना !


~ फ़िज़ा 

Thursday, February 01, 2018

ऐ चाँद, दिलबर मेरे हमनशीं

चित्र अशांक सींग के सौजन्य से
चाँद की अठखेलियां देख 
आज कविहृदय जाग गया
उसकी चंचल अदाओं से 
मेरा दिल घायल हो गया 
अपना पूर्ण मुख प्रतिष्ठा 
और हलकी सी मुस्कान से 
घायल को ही बेहाल किया 
न चैन से सोने दिया रात भर 
न चैन से जगने दिया दिन में 
कामदेव की सूरत में चाँद 
प्यार में रत रहे फ़िज़ा संग 
हर वक़्त एक वासना सी 
सम्भोग का वो आलम जैसे 
हर ख़ुशी दर्शाये रंग से ऐसे 
मानो कभी परदे में छिपके 
तो अँधेरे की आड़ में ऐसे 
एक-दूसरे को समर्पण ऐसे 
तृप्ति मिली आलिंगन भर से 
सदियों से सताए रखा दूर से 
उस रात की रासलीला ने 
उम्मीद जगा दिया अब से 
हो न हो तुम हो उस जहाँ में 
इंतज़ार करूंगी इस जहाँ में 
अब तो मिलन है ज़रूरी 
आशा जिज्ञासा बढ़ गयी है 
ऐ चाँद, दिलबर मेरे हमनशीं 
तू मिलने आ इस चमन में 
तख्ती है राह तेरी फ़िज़ा 
फिर एक रात दोनों जवाँ 
बसेरा हो एक रात का 
जीवनभर का रहे फिर नाता !

~ फ़िज़ा 

Friday, January 19, 2018

मगर मैं क्या चाहूँ ये भी तो अभी पता नहीं !

नए साल की अनेक शुभकामनाएं मेरे सभी पाठकों को !
मेरे नए साल का पहला पद आज प्रस्तुत कर रही हूँ क्यूंकि ज़रा छुट्टियों के मौसम में यहाँ से भी छुट्टी ली या ऐसा कहूँ की तकनिकी सहूलियत की उपलब्धता नहीं होने की वजह से मैं अपनी कविता यहाँ पेश नहीं कर सकी!
आईये मेरी उलझी हुयी गुथी को ज़रा सुलझाइये :)


मैं ढूंढ़ती हूँ जिसे उसका पता भी नहीं 
चाहती हूँ कुछ करना पर ठिकाना नहीं 
सलाह-मश्वरा करूँ तो किससे पता नहीं 
मगर मैं क्या चाहूँ ये भी तो अभी पता नहीं !
जहाँ मैं हूँ अभी वो तो सही ठिकाना नहीं 
चाहत मेरे दिल में अभी बिलकुल भी नहीं 
ख़याल आये जगह की ख़ुशी रत्तीभर नहीं 
इतना पता है अब और नहीं बस और नहीं !
नए साल में पुरानी जगह कुछ ठीक नहीं 
नयी सोच का चलन पुरानी डगर में ठीक नहीं 
कुछ तो जुगाड़ करना है वर्ना ये सब ठीक नहीं 
कुछ करेंगे तो कुछ बनेंगे नहीं तो कुछ भी नहीं !!
सोच में डूबी हूँ के इंतज़ार अब और नहीं 
कुछ दिनों की और छुट्टी अब हकीकत नहीं 
काश! निकलती कहीं किताब लिखने मगर नहीं 
सख्त कदम उठाने पड़ेंगे,सिर्फ सोच कुछ नहीं !!!

~ फ़िज़ा 

भेद-भाव का न हो कहीं संगम !

कविता पढ़ने -सुनने की नहीं है इसे पहनो, पहनाने की ज़रुरत है वक्त बे वक्त बरसों से ज़माने में हैं महाकवि से लेकर राष्ट्र कवी तक हैं देश ...