Friday, April 27, 2018

खोखले इंसान




खोखले मकान
खोखले दूकान
खोखले अरमान
खोखले इंसान
खोखली हंसी
खोखली दोस्ती
खोखली सोच
खोखली पहचान
जीवन व्यर्थ है
खोखलेपन में
व्यर्थ है दिखावा
दोहरी ज़िन्दगी
स्वयं खोखलेपन में
घूम हैं आज इंसान 

~ फ़िज़ा 
#happypoetrymonth

No comments:

ये ज़िन्दगी की भी क्या अजीब किताब है...!

ये ज़िन्दगी की भी क्या अजीब किताब है हर साफा किसी न किसी से जूझता हुआ ! कोई इश्क़ में डूबा हुआ तो कोई मारा हुआ कभी इश्क़ से मांगता हु...