Thursday, April 05, 2018

आदमी-औरत का भेदभाव यहाँ भी



देख उसकी कहानी आज
दर्द हुआ कहीं सीने में आज
जाने कितने ही त्याग स्त्री करे
उसे साधारण ही समझा जाए
वहीं गर वो पुरुष करें तो हाय -हाय !
देख विन्नी मंडेला की कहानी
अफ़सोस हुआ और आँखों में पानी
हर तरह के भेदभाव संसार में होते हैं 
आदमी-औरत का भेदभाव यहाँ भी
वो भी पति करे पत्नी पर हाय-हाय !
कालकोठरी में बिताये २७ साल
कार्तिकारी बनकर टिकी पत्नी बेहाल
निकाल लायी पति को जेल से बाहर
साथ रही हर दुःख-सुख संग बिताये
पद और पत्नी में, छोड़ा पत्नी को हाय -हाय !  

~ फ़िज़ा 
#happypoetrymonth

No comments:

चाँद ही अपना लगा...!

आसमान को आज गौर से देखा कभी चाँद और बादल तो पंछी मगर आसमान को कम ही देखा चाँद ने अपनी अदा से खींचा बादलों ने अपनी उड़ान से सींचा पंछी...