Sunday, April 22, 2018

धुप - छाँव



धुप - छाँव
सूखा - गीला
हरा - भरा
काला - नीला
मीठा - खट्टा
अच्छा - बुरा
ऐसा ही होता है
ज़िन्दगी का गाना
सुबह - शाम
रात - दिन
अँधेरा - उजाला
हँसना  - रोना
बोलना - रूठना
यही है अब तो
रहा अफसाना
चलो ज़िन्दगी को
आज़माके देखें
वैसे भी यहाँ 
आज हैं - कल नहीं
ये भी है बेगाना !
~ फ़िज़ा 
#happypoetrymonth

No comments:

कमरों से कमरों का सफर

सेहर से शाम शाम से सेहर तक  ज़िन्दगी मानों एक बंद कमरे तक  कभी किवाड़ खोलकर झांकने तक  तो कभी शुष्क हवा साँसों में भरने तक  ज़िन्दगी मानों अ...