Monday, April 23, 2018

मंडराते भँवरे ने कहा कुछ ...!




झूमते फूंलों की डालियों पर
मंडराते भँवरे ने कहा कुछ
जाने क्या सुना कलियों ने
मुँह छिपकर हँसने लगीं
फूलों को शर्माते देख
माली डंडी लेकर भागा
भँवरे ने भी कसर नहीं छोड़ी
लगा मंडराने माली के कानों में
वही गीत जिसे सुनकर फूल शर्मायी
कहाँ कोई रोक सका है दीवानों को
जहाँ प्यार है वहां मस्तियाँ भी हैं
बगीया में कुछ इसी तरह का
जश्न फूलों के बीच चल रहा है !

~ फ़िज़ा 
#happypoetrymonth

No comments:

कहीं आग तो कहीं है पानी ...!

कहीं आग तो कहीं है पानी प्रकृति की कैसी ये मनमानी हर क़स्बा, प्रांत है वीरानी फैला हर तरफ पानी ही पानी कहीं लगी आग जंगल में रानी वहीं च...