Posts

Showing posts from April, 2006

पेहली नज़र का धोखा

औफिस केक्‍युबिकल से....

एक तुम से न हो पाये दूर शाम-ओ-सेहर

बूँदें

जाना! सुबह हो गई...