Posts

Showing posts from January, 2017

मुझको रोकने वालों ये बात कहनी थी तुमसे ...

ज़िन्दगी है तो हैं ज़िंदा वर्ना क्या है?