Thursday, December 25, 2014

ज़िंदगी कल गले मिली थी कुछ देर सेहर...!



ज़िंदगी कल गले मिली थी कुछ देर सेहर
पेहले तो बस देखने-समझने में लग गयी देर 
फिर जब प्यार हुआ आँखों-आँखों में देर-सबेर 
तो देखा वक़्त हो चला था शाम पहुंचने मुंडेर
मैने भी केहा दिया ज़िंदगी से रुक जा कुछ देर 
मानो या ना मानो लगा रुक ही जायेगी कुछ देर , मगर
ढल ही गयी शाम और ज़िंदगी मिलने का वादा कर 
निकल गयी हाथ से यूं जैसे अभी मिलेंगे कुछ देर ज़रूर !
~ फ़िज़ा 

Wednesday, November 12, 2014

सब तो भाग रहे हैं दौड़ में....



ज़िंदगी के सारे साधन हैं यहाँ
मगर जीता कौन है यहाँ
सब तो भाग रहे हैं दौड़ में
किसका पीछा करते हैं ना जानते हुये
इस होड़ में जाने कितनो को कुचल दिये
वहीं दोस्ती भी तोड़-मरोड़ते हुये
चले हैं अपनी धुंद में सोचकर खुदा अपनेको
गिरता है जब ठोकर खाकर तब संभालता हुया
मगर कौन है अब बचा हुया जो आसरा ही देदे उसे
पछतावे का चेहरा लेकर कहाँ अब जायेगा टू मुर्झाये
देख सब तुझे ही घूरते हैं अब हर तरह से 
के अब तेरा क्या होगा प्यारे इस जहां से
जब खुदा मानकर चल रहा था तब
नज़र कोई नहीं आया तुझे अब
किस मुंह से मांगेगा हाथ बढ़ाकर
के देने बद्दुआ तो कयी आयेंगे मगर
सच्चा दोस्त एक भी होता अगर
तो शायद लेलेता तुझे अपने घर 
ना पड इन जंजालों में तू सफर
अभी चलना बहुत दूर है तुझे अगर
जान ले हक़ीक़त को ज़रा करीब से मगर 
के आना-जाना लगा रहेगा दुनिया में सेहर 
क्यूं ना खुशी से सब्र से तो सबकी मदत से 
छोड़ आ माया को किसी जंजाल में 
साथ ले शांती का मन-मस्तिष्क में 
जी भरपूर मगर ना नुकसान कर किसी का
~ फ़िज़ा

Saturday, November 08, 2014

मैं खुश हूँ जहांवालों तुम्हारी दुआयें पाकर...

खुश हूँ में आज ज़िंदा रेहाकर यहाँ
याद आता है मुझे बचपन मेरा
जहां पापा की लाड़ तो माँ की डांट
कयी  पल जी लेना उस पल तब 
जब माँ की ना और पापा की हां पर 
सैकड़ों नमन नसमस्तक होकर उनको
जिनकी वजह से हूँ मैं यहाँ आबाद 
जीवन के इस मोड पर आकर जब 
देखूँ उस पार जहां कभी सेहमी सी
थी मैं घबराई इस दुनिया से 
उसी ने दी मुझे होसला दिलेरी का 
कर मुझे बुलंद इस जहां ने दिया प्यार
शायद जो वो भी भूल गये हैं इस बात को 
मगर जैसे माँ की हमेशा सीख थी मुझे 
ना भूलो पिछलों को ना भूलो अपनो को 
बढ़ो आगे जहाँ में ज़मीन पर पॉव रखकर 
मैं खुश हूँ जहांवालों तुम्हारी  दुआयें पाकर
~ फ़िज़ा 

Sunday, November 02, 2014

ए चाँद मेरे मुझे मिला भी तो वहीं जाते - जाते...

तुझे देख मैं निकल पड़ी अपने रास्ते
जिधर ले जाता चले वहीं हम आते 
कभी पेड़ों के पीछे तो कभी बादल आ जाते
ढूंडती हुई निकल पड़ी सवारी जाते-जाते
देखा मेरी ज़िंदगी "रेडियो ज़िंदगी" के आते-आते
मुझे मिला मेरा साजन  ज़िंदगी के रास्ते
ए चाँद मेरे मुझे मिला भी तो वहीं जाते - जाते
जहां शाम ज़िंदगी की करने निकले थे समा सजाते 
~ फ़िज़ा 

Wednesday, September 24, 2014

सलाम कर फ़िज़ा ये दुनिया है बड़ी गोल



बहुत दिनो से है अपना दिल भरा-भरा 
यार ने कसर ना छोड़ी दिल खोलकर रोने दिया !

बहुत दिनो से तारीफों के पुलों पर सवार रहा 
आज हक़ीक़त से वास्ता पड़ा तो चिल्लाना आगया !

कभी मौका मिले तो सोच लेने का कष्ट किया करो 
कैसे सच्चाई से रूबबरू होने से कतराया गया !

दम भरते हैं वो  हमेशा अपने होने का दिलबर 
उतरकर देखो पानी में रेहते हो कहाँ पर गोया 

गम का ना करो चर्चा जहां सभी हैं लाचार
कभी चीरते जिगर से मुस्कुराया भी ना गया !

सलाम कर  फ़िज़ा ये दुनिया है बड़ी गोल
मिलेंगे  पत्थर उनसे जो गले लगा गया !
~ फ़िज़ा 

Friday, May 30, 2014

ज़िंदगी का काम ही जगाना था


एक ख्वाब ही देखा था 
जरूरी नही पूरा होना था
रात के बाद सुबहा होना था
मेरी सुबहा को आज आना था
जल्द ही रात का पता चलना था
सितारों कि चमक पर ना जाना था
धोखे हर हाल में खाना था
चलो एक और मोड़ पर खोना था
संभल गए यही अच्छा था
सफर में मिलना लिखा था
मिलकर अलविदा तो केहना था 
ज़िंदगी का काम ही जगाना था
मुर्दा भी कहाँ तड़पता था
खुश हुँ टुकड़े का क्या होना था
टूटके बिखरे को और बिखरना था

फिज़ा
----------------------------------------
Ek khwab he dekha tha
Zaroori nahi pura hona tha
Raat ke baad subha hona tha
Meri subha ko aaj aana tha
Jald he raat ka pata chalna tha
Sitaron ki chamak per na jana tha
Dhoke har haal mein khana tha
Chalo ek aur mod per khona tha
Sambhal gaye yehi accha tha
Safar mein milna likha tha
Milkar alvida to kehana he tha
Zindagi ka kaam hee jagaana tha
Murda bhi kahan tadapta tha
Khush hun tukde ka kya hona tha
Tootke bikhare ko aur bikharna tha

~ fiza

Monday, March 31, 2014

Mehakati hai 'fiza' hariyaali mein anayaas


Bhiga mausam bhige hain ehasaas 
Aankhein barse phir bhi hai pyaas

Geele hein raste kankad hain aas-paas
Sambhale to kis-se bhigne ka hai aabhas

Taruvar mein hai jeevan, patton ka nivaas
Barkha ki fuhaar, bosa de armaano ka hasaas

Bhiga hai mausam bhige hain ehasaas 
Aankhein barse phir bhi adhuri hai pyaas

Mehakati hai 'fiza' hariyaali mein anayaas
Milan ki aas mein jagaye rakhe wohi pyaas!

~ fiza

Friday, March 21, 2014

Zinda rakhti hai zindagi bhi...!!!


Zindagi tujh se roz milte hain bichadte bhi
Raat ke baad subha ho jaati hai tab bhi
Maano koi ek jhooti aas hee sahi
Zinda rakhti hai zindagi bhi
Khel naye deekhati hai kabhi
Na khelo to maza chakhati hai badi
Ismein jo phans gaya so reha gaya
Tadap ke jhulus ke zinda rahe tab bhi
Nazariya jo bhi rakho zindagi hai abhi
Bas juda hoke rehana hamesha 
Jaise raat aur subha bhi!

~ fiza

Wednesday, March 05, 2014

Barasta paani jaise lori sunaye koi!!!

Barasta paani jaise lori sunaye koi, 

Dhun aisee jaise sangeet bajaye koi, 

Mann chanchal bawla athkheliyan kare koi, 

Pyaas dil mein jagaye milne ko bechen koi,

Bhuli-bisri yaadein agan jagaye jaise koi,

Sulagta hua dil yaad mein tadapta koi,



Dheemi boondein sehalata jaise koi,

Needon mein palkein moondkar khawab koi,

Dekhoon oos or jahan khula maidan koi,

Daudti hui befikr jhoomein ladki koi,

Ye dekh "pagal" kehata hai use koi,

Barasta paani jaise lori sunaye koi,

Dhun aisee jaise sangeet bajaye koi!!!


~ fiza

Wednesday, January 08, 2014

Ek khumaar sa layi hai sehar per barkha .. !

Suna hai kal raat jamm ke barsi thi barkha
Ek khumaar sa layi hai sehar per barkha

Khumaar (hangover)

Dhund jaise baadal bikhari to meine dekha
Ho na ho ye jamaal sehar per layi hai barkha

Tan-man mein sulagti hui aag lagi hai jaana
Mere dil mein angadaiyaan khelti hain barkha

Bahake huye khayaal mitha dard de gayi barkha
Deewane nikahaton ko gud-gudagayi barkha

nikahaton (fragrance)


Zulfein bikher kar pehalu mein aayi barkha
Ji karta hai shaam-e-abad  tak ho barkha

shaam-e-abad (unending evening)

Havaas mein romanchak sa aa base barkha
Aisa haal ‘fiza’ ka koi aur nahi kare hain ye barkha!

Havaas (sense and sensibility)

~ fiza

Sunday, January 05, 2014

Sparsh!!!


Sehalata hua pyaar se har taraf woh mujhe
Mehasoos karta kabhi to pyaar woh mujhe
Sparsh ke aalingan mein baandh woh mujhe
Kaaya se kaaya milkar geet kuch yun uljhe 
Mastishk mein ek dhun jaise bankar suljhe
Ehasaas se bhare pyaale yun pyaas bujhaye
Jo harpal sochne per bhi wohi ras pilaye
Na bolkar, na deekhakar koi rijhaye
Na gaakar na banaakar ye samajh aaye
Na kisi proudhyogiki (technology) uplabdh karaye
Ek ehasaas jise sirf choohkar mehasoos karaye
Ek anant sukh jo sirf ek 'SPARSH' dilaye!!!

~ fiza





Wednesday, January 01, 2014

Dekhte-dekhte saal ke umr badhane lage!


Dekhte-dekhte saal ke umr badhane lage
Unneessau se Do-hazaar chaudhah ho gaye
Dekhte-dekhte saal ke umr badhane lage!

Maidano mein khela karte the saal guzar gaye
Ab bacche machino ke sang khelte reh gaye
Dekhte-dekhte saal ke umr badhane lage!

Tab dilon mein pyar-balidaan ki gaatha sunaye
Ab to sirf naam aur matlab ke liye goon gaye
Dekhte-dekhte saal ke umr badhane lage!

Zindagi ki sehar aur shyam tab kuch alag lage
Aaj sehar bhi aur shyam bhi ek se lagne lage
Dekhte-dekhte saal ke umr badhane lage!

Un dino bandishein aur usoolon per jine wale
Ab bina kisi bandhan ke sabhi ko sahara milne lage
Dekhte-dekhte saal ke umr badhane lage!

Oos orr se iss chor tak bahut saal guzar gaye
Kuch jyada paaya aur kuch bahut kho diye
Dekhte-dekhte saal ke umr badhane lage!

Tab se aaj tak ek tum he ho jo kabhi na badle
Tab bhi ghatkar badhte aur aaj bhi waise he lage
Dekhte-dekhte saal ke umr badhane lage!
Magar tum mere Chand, mere he rahe aur na badle
Dekhte-dekhte saal ke umr badhane lage!!!

~ fiza



भेद-भाव का न हो कहीं संगम !

कविता पढ़ने -सुनने की नहीं है इसे पहनो, पहनाने की ज़रुरत है वक्त बे वक्त बरसों से ज़माने में हैं महाकवि से लेकर राष्ट्र कवी तक हैं देश ...