Wednesday, April 11, 2018

वर्षा की बौछार...!

शाम अकेली थी
थकी-जीती ज़िन्दगी,
हारी नहीं थी ;)
बच्चों से बतियाकर,
अपने कुत्ते के संग खेलकर,
जब ख़याल आया,
गरम-गरम फुल्के,
और वसंत-प्याज़ की सब्ज़ी,
मारे भूख के दौड़ने लगे चूहे,
फिर एक न देखा इधर-या उधर,
जैसे ही खाने बैठी,
वर्षा की बौछार,
लगी भूमि को तृप्त करने में,
जब तक प्यास रहे अंतर्मन में,
तब तक ही रहे कीमत सब में !
~ फ़िज़ा

No comments:

चाँद ही अपना लगा...!

आसमान को आज गौर से देखा कभी चाँद और बादल तो पंछी मगर आसमान को कम ही देखा चाँद ने अपनी अदा से खींचा बादलों ने अपनी उड़ान से सींचा पंछी...