Saturday, June 16, 2018

मोमबत्तियाँ...!



दूसरों को रौशनी देते हुए
पिघलती हैं मोमबत्तियां
कभी सोचा है, क्या गुज़रती है
क्या सोचती है ये मोमबत्तियाँ?
जल तो परवाना भी जाता है
शम्मा के पास जाते-जाते 
मगर मोमबत्ती रौशनी देते-देते 
खुद फ़ना हो जाती है
ज़िन्दगी कुछ लोगों की
सिर्फ मोमबत्ती बनकर
रेहा जाती है !
~ फ़िज़ा

No comments:

ये ज़िन्दगी की भी क्या अजीब किताब है...!

ये ज़िन्दगी की भी क्या अजीब किताब है हर साफा किसी न किसी से जूझता हुआ ! कोई इश्क़ में डूबा हुआ तो कोई मारा हुआ कभी इश्क़ से मांगता हु...