Monday, April 17, 2017

तब आयी एक नन्ही कली...


जहां में थी जब मैं अकेली 
तब आयी एक नन्ही कली 
सोचा न था, मैं हैरान हूँ पगली !
बस यकीन था खुद पर 
चलना,सफर गर ज़िन्दगी 
सोचा न था, मैं हैरान हूँ पगली !
तो साथ में हो मेरी सखी 
छोटी थी मेरी राजदार मगर 
सोचा न था, मैं हैरान हूँ पगली !
हर सुख-दुःख में निभानेवाली 
मेरी नन्ही कली, चंचल मतवाली 
सोचा न था, मैं हैरान हूँ पगली !
कभी हम ज़िंदादिली सीखाएं 
तो कभी वो हमें सीखाएं 
सोचा न था, मैं हैरान हूँ पगली !
है तो मेरी ही विस्तार 
मगर मैं मुड़कर देखूं पीछे 
सोचा न था, मैं हैरान हूँ पगली !
अपनी उम्र न कभी गिनी मैंने 
कब हो गयी ये फूल मेरी कली 
सोचा न था, मैं हैरान हूँ पगली !
फिर सोचूं क्यों मैं गिनूँ साल 
अब तो है मेरी बराबर की सखी 
सोचा न था, मैं हैरान हूँ पगली !

~ फ़िज़ा 

No comments:

गर्मी वाली दोपहर...!

ऐसी ही गर्मी वाली दोपहर थी वो हर तरफ सूखा पानी को तरसता हुआ दसवीं कक्षा का आखिरी पेपर वाला दिन बोर्ड की परीक्षा पढ़ाई सबसे परेशान बच्चे म...