Sunday, October 01, 2017

समय-समय की बात है धैर्य, सैय्यम 'फ़िज़ा'





कोई दूर होने के लिए दूर करता है 
कोई अपनी नफरत जताने के लिए ! 

किसी को नीचा दिखाकर मज़ा आता है  
कोई अपना बड्डपन जताकर करता है !

इंसान कहाँ तक जायेगा अहम् लेकर
खुद भी जलेगा, सिर्फ खुद ही जलेगा !

रंगमंच पर सभी आते हैं निभाने किरदार  
दृश्य भी बदल जायेगा स्थल के अनुसार !

ढूंढो तो जहाँ में क्या नहीं मिल जाता 
इंसान को इंसान मिलते लगती नहीं देर!

समय-समय की बात है धैर्य, सैय्यम 'फ़िज़ा' 
वक़्त आएगा जहाँ में कोई तो होगा अपना वहां !
  
~ फ़िज़ा 

No comments:

गर्मी वाली दोपहर...!

ऐसी ही गर्मी वाली दोपहर थी वो हर तरफ सूखा पानी को तरसता हुआ दसवीं कक्षा का आखिरी पेपर वाला दिन बोर्ड की परीक्षा पढ़ाई सबसे परेशान बच्चे म...