Saturday, December 02, 2017

भंवरें भी गुंजन गायेंगे !


पतझड़ का मौसम आया 
और चला भी जायेगा 
पुराने पत्ते खाद बन कर 
नए कोपलें शाख पर 
सजायेंगे !
तन्हाई भी कभी रूकती नहीं    
रहगुजर मिल ही जायेगा 
नए साथी होंगे समझनेवाले  
ज़िन्दगी के स्केच में रंग 
भरेंगे!
ग़मों का बादल बरस गया 
हरियाली से चमन भर जायेगा
नयी खुशबु लिए मौसम ज़रा 
फूलों के संग भंवरें भी 
गुंजन गायेंगे !

~ फ़िज़ा    

No comments:

हर उड़ान पर दी थप-थपाई...

दुआओं से मांगकर लाये ज़मीन पर मुझे इस कदर प्यार से सींचा निहारकर भेद-भाव नहीं जीवनभर हर ख्वाइश की पूरी खुलकर उड़ने दिया हर पल पंछी बनकर हलक...