Friday, May 19, 2017

एक घबराहट



एक घबराहट 
कुछ अजीब सा 
जैसे पेट में दर्द 
जाने क्या हो 
कोई अंदेशा नहीं 
धड़कन की गति 
बेचैन करती 
क्यों अंत यहीं हो 
मेरा के मुझे 
मालूम ही न हो 
के किस बात की 
थी ये घबराहट !!!

~ फ़िज़ा 

No comments:

हर उड़ान पर दी थप-थपाई...

दुआओं से मांगकर लाये ज़मीन पर मुझे इस कदर प्यार से सींचा निहारकर भेद-भाव नहीं जीवनभर हर ख्वाइश की पूरी खुलकर उड़ने दिया हर पल पंछी बनकर हलक...