Sunday, April 07, 2019

चलते ही चले जाना है



चलते ही चले जाना है 
यहाँ से वहाँ  तक तो
वहाँ से यहाँ तक सभी
सफर ही तो कर रहे हैं 
मंज़िल की तलाश में 
मंज़िल की ओर कभी 
कभी यूँही घूम हो जाने 
चलते ही चले जाना है 
यहाँ से वहां तक तो। 
बादलों का कारवाँ 
वहां भी है यहाँ भी
बात वोही ढूंढ़ते हुए 
शायद वो जानते हैं 
मगर हमारी तलाश 
अब भी है ज़ारी यहाँ 
वहां भी है भीड़ यहाँ भी 
चलते ही चले जाना है 
यहाँ से वहां से तक तो


~ फ़िज़ा 

2 comments:

Harpreet Babbu said...

Kya baat

Dawn said...

Shukriya

जन्मदिन तुम अच्छी रही आज !

आज का दिन भी बड़ा सुहाना था  हर दिन की तरह प्यार मोहब्बत इन्हीं सब चीज़ों से भरा पड़ा था  कितने ही पन्ने किताबों के पढ़ लो  सफ़...