Wednesday, April 10, 2019

ज़िन्दगी के कुछ कदम अकेले



ज़िन्दगी के कुछ कदम अकेले 
चले तो हैं अपने बल पे अकेले 
कभी डरके,थम के कभी संभलके 
सोचा नहीं आगे-पीछे बस चले 
तरह-तरह के जगह लोग मिले 
हादसों से, हरकतों से सबक मिले 
ज़िन्दगी और साथी कौन समझ लिये 
वक़्त गुज़रे थम के गुज़रे तो बरसके 
ज़िन्दगी हकीकत सलीके से समझे 
अपने पराये में फरक करीब से समझे 
गुज़रते रहे रास्तों से और वक़्त गुज़रते 
किसी से गिला नहीं बाईस साल गुज़रे
वक़्त के तकाज़े ने साफ़ दिखलाये 
ज़िन्दगी शिकायत की वजह भी न दिये 
शुक्रगुज़ार ऐ ज़िन्दगी तेरा और ये रास्ते  
कभी न रुकते चाहे हम न साथ चले तेरे 
ज़िन्दगी न छोड़े बेशक हम रास्ते बदलें 
कभी ज़िन्दगी जियें तो कभी मौत लिए !

~ फ़िज़ा 

No comments:

ढाई अक्षर प्यार के - भाषा

मुझे कुछ कहना है तुमसे  कहूं तो कैसे  क्या समझ पाओगे ऐसे  बोली तो नहीं जानते  फिर इशारों से ही जैसे  कहा दिया हाल दिल का  अब...