Friday, April 26, 2019

हौसलों के परिंदे उड़ते हैं उड़ान



दिल की अंगड़ाई लेती है उड़ान 
अब न रुके ये रोकने से उड़ान 
बादलों को छुकर चला है उड़ान 
संभलना गिरा न दे उमंग उड़ान 
सुनेहरे सपनों से सजी है उड़ान 
देखो सूर्यास्त तो नहीं है उड़ान 
पर दिए हैं आसमां छुलो उड़ान 
यूँ भी न उड़ो के गिर पड़े उड़ान 
हौसलों के परिंदे उड़ते हैं उड़ान 
सलीके से उड़ो तो हसीं है उड़ान 

~ फ़िज़ा 

No comments:

कमरों से कमरों का सफर

सेहर से शाम शाम से सेहर तक  ज़िन्दगी मानों एक बंद कमरे तक  कभी किवाड़ खोलकर झांकने तक  तो कभी शुष्क हवा साँसों में भरने तक  ज़िन्दगी मानों अ...