Friday, April 26, 2019

नारी आज भी है पिछड़ी,परायी..!



जो बर्फीले जुल्म में 
या काँटों के सेज़ में
अन्याय के झोंकों में 
भेदभाव की आँधियों में 
बातों के कांच की चुभन में 
धिक्कार की बारिश में 
अत्याचार के बाढ़ में भी 
अपना सुकून खोजती हुई 
नारी आज भी सेहमी हुई 
सिकुड़ी हुई घबराई हुई 
संभलते -सँभालते हुए 
इस पीढ़ी से उस पीढ़ी तक 
सँवारते, बढ़ाते हुए चली आयी 
हाय नारी!
तेरी अब भी यही है कहानी 
जहाँ चाँद में घर खरीदें वहां 
नारी आज भी है पिछड़ी,परायी  
डराई, हताश, निराश सतायी !
फिर भी कहें सब सुन्दर नारी !!

~ फ़िज़ा 

No comments:

ज़िन्दगी से कोई क्या गिला करे?

ज़िन्दगी से कोई क्या गिला करे? जब ज़िन्दगी ही कुछ न कर सके  बहती धारा की तरह निकलती है  सरे आम घूम-घाम कर बढ़ती है  और देखो तो ज...