Wednesday, April 03, 2019

दिनचर्या


सेहर की लहर में थी रवि की लालिमा 
सुनहरे बालों में जैसे फूल गुलाब का
चहकती पक्षियाँ संगीत का समां बांधे 
दूर से जैसे बुलाती हुई रेल की सिट्टियाँ 
सुबह की हलचल हर तरह की जल्दी 
ऐसे में एक गरम -गरम प्याली चाय की 
नाश्ते के दो अंडे फिर गड़बड़ी में भागे
गाड़ियों की टोली उनमें हरी-लाल बत्ती 
जो पहुंचाए हर किसी को उनकी मंज़िल 
शुरू होती है सेहर से और ख़त्म शाम पर 
दिन-रात की ये पहेली चले यहाँ से वहां तक !

~ फ़िज़ा

No comments:

ढाई अक्षर प्यार के - भाषा

मुझे कुछ कहना है तुमसे  कहूं तो कैसे  क्या समझ पाओगे ऐसे  बोली तो नहीं जानते  फिर इशारों से ही जैसे  कहा दिया हाल दिल का  अब...