Thursday, April 11, 2019

चला था मैं किस डगर



चला था मैं किस डगर 
क्या सोचके क्या खबर 
धुप है या छाँव न खबर 
आग है या दरिया न डर 
निकले थे कोख़ से या घर 
चलना है, आगे जो है नगर 
ठहरता है कौन यहाँ मगर 
जब मंज़िल है कहीं और 
जाना है मुझे अभी और दूर 
जहाँ न कोई दर-ओ-दीवार  
न सीमाओं का हो कभी डर 
ऐसा एक आज़ाद हो नगर 
जहाँ करते रहना है सफर 

~ फ़िज़ा 

No comments:

जीवन तो है चलने का नाम ...!

जीवन है चलने का नाम  देते यही सबक और धाम   कुछ लक्ष्य जीवन के नाम  रख देते हैं समाज में पैगाम  चंद गंभीरता से पहुँचते मुकाम  ...