Friday, February 17, 2006

भीगा भीगा मौसम है....

आज सुबह जब मैं घर से निकली थी तब सुरज अपनी रोशनी पर था और हलकी सी शुशक सरदी भी थी....काम की वयसतता के कारणवश....पता ही नहीं चला के कब काले बादल छाये और बस देखते ही देखते मुसलदार बरखारानी बरस पडी
बारिश का मौसम, और काले बादलों का छा जाना मेरे लिऐ कभी छुटिट्यों से बढकर नहीं लगे ये दिन
वो पाठशाला के दिन याद आ जाते हैं.....बेहते पानी के नालों में खेलना....बहुत देर तक भिगना और फिर घर पहुँच कर तरह तरह के बहाने बनाना....माँ की डाँट सुनकर भी ... मेरी पसंदगी बरकरार रही

भीगा-भीगा मौसम है
भीगा- भीगा सा आँचल


मन में एक उमंग है तो,
कहीं कुछ उदासी सी भी ..


ऐसे में कोई साथी हो तो,
मौसम का कुछ और मजा है


बहारों की ये मौसगी जो,
इंतजार तेरा करवाती है


कयों न कोई ऐसी बात हो,
के दिदार-ए-यार आज हो जाऐ


भीगे से इस मौसम में
कयों न आज हम भी भीग जाऐं


भीगे आँचल में ही सही,
हम तुम एक हो जाऐं कहीं

~ फिजा

6 comments:

Kumar Chetan said...

are wah,
kya baat hai.
Aap ki to shayari me achi "Sehar" ho rahi hai.
Aap to rising star ban rahe ho.
is baar maine socha ke teeka tippni me koi sher nahi.
Sach keh raha hun muje sahitya ka kuch gyan nahi.

kaunquest said...

aisi bheegi, bheegi raathen
phir na ho ye barsaathen
aajaao, aabhijaao tum, baahon mein, meri baahon mein...

Manish said...

About the poem

ऐसे में कोई साथी हो तो,
मौसम का कुछ और मजा है
haiiiiiiin ab aur kitne sathi chahiye aapko :) :)

Aapki ye halki phulki creation kab ki creaion hai !
loved these lines
भीगे आँचल में ही सही,
हम तुम एक हो जाऐं कहीं
good

About Corrections :)
Better effort than previous one! Shabash! Ignoring half words

Musaldaar should be Moosalaadhaar
Bhigna should be Bheegna
Didaar should be Deedaar

Dawn....सेहर said...

@kumar chettan: MashAllah...aap to waqai hamari houslafzayee bade hee apnaiyat ke saath karte hein...umeed hai ke hum aapke umeed per khare utarenge :)
shukriya bahut bahut shukriya :)

@kaunquest: wah janab....to boondone aap per bhi kar diya jaadoo :) bahut khoob...barish hain hee itne haseen ki ek romanchak baat utpann ho hee jaati hai :) shukriya aapke inn anmol kadiyon ko yahan pesh karne ka ...:)
shukriya

@manish: Yes..sir!!!! mein koshish karoongi aur kar bhi rahi hoon...:) shukriya meri trutiyon ko mujh tak pahunchane ka :)

cheers ;)

silbil said...

how does one write in hindi in blogs...can someone guide me?

Dawn....सेहर said...

@silbil: Welcome to my blog :)
I guess there are so many links probably you should try this one..here

http://akshargram.com/sarvagya/index.php/How_to_Type_in_Hindi

enjoy
do come again

cheers

ज़िन्दगी से क्या चाहिए ...

ज़िन्दगी के धक्कों में  कहीं जवानी और ज़िन्दगी  दोनों खो गयीं उम्र के दायरे में  रहगुज़र करते-करते  ज़िन्दगी से क्या चाहिए  ये भ...