Monday, March 09, 2015

क्यूं मन पिघलता है जब मोहब्बत है?


मुझ से मोहब्बत को मोहब्बत है
ये जानते हुये भी के मुझे मोहब्बत है
कैसे ना रोक पाऊँ अपने आपको, मोहब्बत है
जो भी प्यार से मिले मुझे मोहब्बत है
क्यूं मन पिघलता है जब मोहब्बत है?
कैसा ये असर है कैसा खुमार ये मोहब्बत है ….

फ़िज़ा

No comments:

गर्मी वाली दोपहर...!

ऐसी ही गर्मी वाली दोपहर थी वो हर तरफ सूखा पानी को तरसता हुआ दसवीं कक्षा का आखिरी पेपर वाला दिन बोर्ड की परीक्षा पढ़ाई सबसे परेशान बच्चे म...