Monday, March 09, 2015

क्यूं मन पिघलता है जब मोहब्बत है?


मुझ से मोहब्बत को मोहब्बत है
ये जानते हुये भी के मुझे मोहब्बत है
कैसे ना रोक पाऊँ अपने आपको, मोहब्बत है
जो भी प्यार से मिले मुझे मोहब्बत है
क्यूं मन पिघलता है जब मोहब्बत है?
कैसा ये असर है कैसा खुमार ये मोहब्बत है ….

फ़िज़ा

No comments:

मोहब्बत ही न होता तो मैं कहाँ होता?

मोहब्बत में मैं नहीं होता तो खुदा होता  मोहब्बत ही न होता तो मैं कहाँ होता? फ़िज़ा में दिन नहीं होता तो क्या होता?  दिन नहीं जब हो...