Thursday, March 10, 2011

Something that put me to think...The impending Singularity in our future is increasingly transforming every institution & aspect of human life, from sexuality to spirituality

No comments:

बस इंतज़ार है के कब दीद हो रंगीन फ़िज़ा में !!

किसी के रहते उसकी आदत हो जाती है  उसके जाने के बाद कमी महसूस होती है ! हर दिन के चर्ये का ठिकाना हुआ करता है   अब जब गए तो राह भट...